जावेद अख्तर और शबाना आजमी ने रद्द किया पाकिस्तान दौरा, लिखा- और फिर कृष्ण ने अर्जुन से कहा...

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के खिलाफ गीतकार जावेद अख्तर और उनकी पत्नी शबाना आजमी ने अपना पाकिस्तान का दौरा रद्द कर दिया है। उन्होंने शायर कैफी आजमी की याद में कराची आर्ट काउंसिल में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने से मना कर दिया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए विभत्स आतंकी हमले से जहां पूरा देश स्तब्ध और सख्त गुस्से में है, वहीं बॉलीवुड और साहित्य जगत भी इस हमले से हिल गया है। गुरुवार को हुए आतंकी हमले के विरोध में नाराजगी जताते हुए गीतकार जावेद अख्तर और अभिनेत्री शबाना आजमी ने कराची आर्ट काउंसिल के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने से मना करते हुए अपना पाकिस्तान जाने का कार्यक्रम रद्द कर दिया है।

जावेद अख्तर और शबाना आजमी को शायर कैफी आजमी की याद में कराची आर्ट काउंसिल में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता मिला था। लेकिन गुरुवार को पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हुए हमले से आहत दोनों ने शुक्रवार को पाकिस्तान जाने का अपना कार्यक्रम रद्द कर दिया। बता दें कि कैफी आजमी अभिनेत्री शबाना आजमी के पिता और जावेद अख्तर के ससुर हैं।

जावेद अख्तर ने ट्विटर पर इस फैसले की जानकारी देते हुए लिखा, “कराची आर्ट काउंसिल ने शबाना और मुझे दो दिन पहले कैफी आजमी और उनकी कविताओं पर आयोजित एक लिटरेरी कॉन्फ्रेंस में आमंत्रित किया था। हमने इसे रद्द कर दिया है। 1965 में भारत-पाक युद्ध के दौरान कैफी साहब ने एक ग़ज़ल लिखी थी- “और फिर कृष्ण ने अर्जुन से कहा”।

गौरतलब है कि इससे पहले भी गुरुवार को जावेद अख्तर ने पुलवामा में हुए हमले की भर्त्सना करते हुए लिखा था, ''मेरा सीआरपीएफ से विशेष संबंध रहा है। उनका समूह गान मैंने लिखा है। उस गीत को लिखने से पहले मैंने कई सीआरपीएफ अधिकारियों से मुलाकात की थी और जो कुछ भी मैंने जाना उसके बाद इन बहादुर जवानों के लिए मेरा सम्मान और प्यार कई गुना बढ़ गया। आज मैं उन सभी बहादुर जवानों के परिजनों के दुख में शामिल हूं।”

Published: 15 Feb 2019, 4:19 PM
लोकप्रिय