विकास दुबे का गुर्गा गुड्डन त्रिवेदी और उसका ड्राइवर मुंबई में गिरफ्तार, कानपुर पुलिस हत्याकांड में था शामिल

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपियों में से एक अरविंद उर्फ गुड्डन त्रिवेदी भी गिरफ्तार कर लिया गया है। मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे के इस गुर्गे और उसके ड्राइवर को ठाणे में आतंकवाद रोधी दस्ते ने धर दबोचा है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपियों में से एक अरविंद उर्फ गुड्डन त्रिवेदी भी गिरफ्तार कर लिया गया है। मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे के इस गुर्गे और उसके ड्राइवर को ठाणे में आतंकवाद रोधी दस्ते ने धर दबोचा है। एटीएस की जुहू (मुंबई) यूनिट ने यह गिरफ्तारी की। एक अधिकारी ने बताया, एटीएस इंस्पेक्टर दया नायक को शनिवार को खुफिया जानकारी मिली कि ये दोनों मुंबई या ठाणे में छिपने के लिए जगह तलाश रहे हैं। तब इन्हें पकड़ने के लिए जाल बिछाया गया।

जानकारी के अनुसार, गुड्डन (46) और उसका ड्राइवर सुशील कुमार उर्फ सोनू सुरेश तिवारी (30) जाल में फंसकर ठाणे के व्यस्त कोलशेट रोड पर एक स्थान पर पहुंच गए। तभी वहां उनका इंतजार कर रही एटीएस की जुहू टीम ने उन्हें दबोच लिया।

प्रारंभिक जांच के अनुसार, गुड्डन त्रिवेदी, विकास दुबे के साथ कई गंभीर मामलों में शामिल रहा है, जिसमें 2001 में उत्तर प्रदेश के मंत्री संतोष शुक्ला की हत्या का मामला भी शामिल है। इस मामले के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने इनाम की घोषणा भी की थी।

गुड्डन और तिवारी कानपुर के बिकरू गांव में हुई तीन जुलाई की घटना के बाद से फरार थे। बिकरू गांव में विकास दुबे और उसकी टीम ने पुलिस टीम पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर आठ पुलिस कर्मियों की हत्या कर दी थी।

बाद में विकास दुबे मध्य प्रदेश के उज्जैन में प्रसिद्ध महाकाल मंदिर से पकड़ा गया। कानपुर ले जाने के दौरान रास्ते में भागने के प्रयास में विकास पर उप्र पुलिस ने गोली चलाई और वह मारा गया।

पुलिस तीन जुलाई के बाद से ही उसके पूरे गिरोह की तलाश में जुटी थी। विकास दुबे के एनकाउंटर के 24 घंटे बाद उसके साथी गुड्डन और ड्राइवर को मुंबई एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया। एक पुलिस अधिकारी के अनुसार, जल्द ही यहां औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद इन दोनों को उत्तर प्रदेश ले जाने की संभावना है।

लोकप्रिय
next