किसान आंदोलन: 26 जनवरी को होने वाले ट्रैक्टर मार्च को लेकर किसान संगठनों का बड़ा फैसला, अब इस जगह होगी रैली

ट्रैक्टर मार्च को लेकर किसान पिछले कई दिनों से तैयारियों में लगे हैं। पहले ऐसी खबरें आई थी कि किसान लाल किले पर ट्रैक्टर मार्च निकालने वाले हैं।

फोटो : विपिन
फोटो : विपिन
user

रवि प्रकाश

मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीनों नए कृषि कानूनों का किसान विरोध कर रहे हैं। इन कानूनों के खिलाफ किसान दिल्ली बॉर्डर पर 50 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। इस मसले पर किसान संगठनों और सरकार के बीच कई दौर की बातचीत भी हो चुकी है, लेकिन अब तक कोई हल नहीं निकल सका है। वहीं किसान सरकार के विरोध में 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर मार्च निकलाने वाले हैं।

ट्रैक्टर मार्च को लेकर किसान पिछले कई दिनों से तैयारियों में लगे हैं। पहले ऐसी खबरें आई थी कि किसान लाल किले पर ट्रैक्टर मार्च निकालने वाले हैं। इस पर भारतीय किसान यूनियन (राजेवाल समूह) के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने किसानों को एक खुले पत्र में स्पष्ट किया है कि ट्रैक्टर मार्च केवल हरियाणा-नई दिल्ली सीमा पर होगा, लाल किले पर नहीं होगा जैसा कि कुछ नेताओं द्वारा दावा किया जा रहा है। राजेवाल ने उन किसानों को भी अलगाववादी तत्वों से दूर रहने को कहा है जो मार्च में ट्रैक्टर निकालने की कोशिश कर रहे थे।

बता दें कि किसान तीनों नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं। एमएसपी को लेकर भी किसान सरकार से नाराज हैं। किसानों की मांग है कि इन कानूनों को वापस लिया जाए। सरकार और किसान संगठनों के बीच इस मुद्दे पर कई दौर की बैठक भी हो चुकी है, लेकिन कोई सहमति नहीं बन पाई। फिलहाल मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया है। सुप्रीम कोर्ट ने एक कमेटी बनाई है। सुप्रीम कोर्ट के कमेटी वाले फैसले पर भी किसान संगठन संतुष्ट नजर नहीं आ रहे हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों में किसानों ने लोहड़ी पर कृषि कानून की प्रतियां जलाई और आंदोलन को और तेज करने की अपील की।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 14 Jan 2021, 1:24 PM
लोकप्रिय
next