15 लाख की तरह मोदी सरकार का 20 लाख करोड़ का पैकेज था 'कोरोना जुमला'! राहुल गांधी का तंज

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को राष्ट्रव्यापी कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय पैकेज को लेकर मोदी सरकार पर कटाक्ष करते हुए इसे 'कोरोना जुमला' बताया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

रवि प्रकाश

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को राष्ट्रव्यापी कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय पैकेज को लेकर मोदी सरकार पर कटाक्ष करते हुए इसे 'कोरोना जुमला' बताया। राहुल गांधी ने एक ट्वीट में कहा, चुनावी जुमला-15 लाख अकाउंट में, कोरोना जुमला- 20 लाख करोड़ का पैकेज।

उन्होंने आईएएनएस न्यूज रिपोर्ट भी अटैच किया जिसमें बताया गया है कि मई में, जब केंद्र ने बड़े पैमाने पर 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की, तो कोरोना से प्रभावति देश द्वारा इसकी खूब सराहना की गई थी। जैसा कि बाद में पता चला, यह खुशी नाहक ही थी और शुद्ध मंजूरी केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा घोषित बड़ी राशि की तुलना में बहुत मामूली थी।

20 लाख करोड़ रुपये के ऐतिहासिक वित्तीय पैकेज के सटीक लाभों को उजागर करने का प्रयास करते हुए, पुणे के एक व्यापारी प्रफुल्ल सारदा ने आरटीआई के तहत एक प्रश्न दायर किया, और केंद्र से कुछ चौंकाने वाले जवाब मिले। अन्य बातों के अलावा, उन्होंने 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज, सेक्टर-वार और राज्य-वार के संवितरण का विवरण मांगा और क्या कोई शेष राशि सरकार के पास लंबित थी यह भी जानना चाहा।

मंत्रालय ने बताया कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत, एक इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी योजना पेश की गई थी, जो कि 31 अक्टूबर तक या इसीएलजीएस के तहत 3 लाख करोड़ रुपये तक मंजूर किए जाने (जो भी पहले हो) तक उपलब्ध थी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय
next