मध्य प्रदेश सरकार कर्ज का ब्याज चुकाने ले रही कर्ज, राज्य पर साढ़े तीन लाख करोड़ का कर्ज : पटवारी

कांग्रेस की मध्य प्रदेश इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि, राज्य सरकार कर्ज का ब्याज चुकाने के लिए कर्ज ले रही है, राज्य पर साढ़े तीन लाख करोड़ का कर्ज हो गया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस की मध्य प्रदेश इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि, राज्य सरकार कर्ज का ब्याज चुकाने के लिए कर्ज ले रही है, राज्य पर साढ़े तीन लाख करोड़ का कर्ज हो गया है।

पार्टी के प्रदेश कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन में पटवारी ने गुरुवार को कहा, शिवराज सरकार के कुशासन के कारण राज्य पर आज साढ़े तीन लाख करोड़ का कर्ज हो गया है। हैरानी की बात यह है कि 2022 में सरकार ने कर्ज चुकाने के लिए भी कर्ज लिया।


उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार विकास कार्यों के लिए कर्ज ले तो उसमें कोई बुरी बात नहीं है, लेकिन दुखद है कि यह कर्ज इवेंट, प्रचार, 125 करोड़ का हवाई जहाज खरीदने के लिए और अपनी विलासिता का सामान खरीदने के लिए यह कर्ज लिया जा रहा है। राज्य के हर आदमी पर 41 हजार रुपये का कर्ज है, यह कर्ज आपके और मेरे बच्चे बेरोजगार रहकर और महंगाई सहकर चुकायेंगे।

पटवारी ने कहा कि महंगाई के दौर में भी सरकार विलासितापूर्ण जीवन जीने से बाज नहीं आ रही है। हमें तो डर है कि कहीं मध्य प्रदेश की हालत श्रीलंका जैसी न हो जाए। वह मध्य प्रदेश जो स्वास्थ्य सुविधाओं में 19 बड़े राज्यों में 17वें नंबर पर है, जहां सवा करोड़ युवा बेरोजगार हों, जिस प्रदेश के 1587 स्कूलों समेत कई अन्य जिलों में बड़ी संख्या में स्कूलों में शिक्षक नहीं हों, जिस राज्य में प्रति व्यक्ति आय कम हो गई हो, उस मध्यप्रदेश में अब 400 करोड़ रुपए का कर्ज लेकर विलासिता पर खर्च करेगी सरकार।


पटवारी ने कहा कि उमा भारती शराबबंदी पर दिन-प्रतिदिन नये-नये प्रयोजन करती रहती हैं, नया अभियान शुरू करती है। लेकिन मध्य प्रदेश सरकार में जो शराब ठेकेदारों द्वारा राज्य सरकार को हिस्सा दिया जाता है, संभवत यह हिस्सा नहीं मिलने पर वे शिवराज पर दबाव बनाती रहती हैं। इस सब के बीच मध्य प्रदेश में शराब दुकानों की संख्या काफी बढ़ चुकी है, जबकि शराब की लत कई परिवारों को बर्बाद कर रही है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia