महाराष्ट्र: ED के सामने पेश हुए NCP (SP) विधायक रोहित पवार, सुप्रिया बोलीं- यह 'सत्य' के लिए संघर्ष है

सुप्रिया सुले ने कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर तालियां बजाईं, उनका उत्साह और रोहित पवार का मनोबल बढ़ाया। सुले ने कहा, "यह 'सत्य' के लिए संघर्ष है और अंततः सत्य की जीत होगी।"

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (शरद पवार) के प्रमुख विधायक रोहित आर. पवार मुंबई में बुधवार को कथित धन शोधन मामले की जांच के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सामने पेश हुए। इस दौरान बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय एजेंसी के कार्यालय के सामने एकत्र होकर प्रदर्शन किया।

रोहित आर. पवार ने दक्षिण मुंबई में ईडी कार्यालय में जाने से ठीक पहले अपने चचेरे दादा और पार्टी सुप्रीमो शरद पवार तथा कार्यकारी अध्यक्ष और सांसद सुप्रिया सुले के पैर छुए और अन्य वरिष्ठ नेताओं से हाथ मिलाया।

उनके निर्वाचन क्षेत्र कर्जत-जामखेड (अहमदनगर), पुणे और मुंबई से बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता ईडी कार्यालय के पास एकत्र हुए, जहां किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी।

सुप्रिया सुले ने कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर तालियां बजाईं, उनका उत्साह और रोहित पवार का मनोबल बढ़ाया। सुले ने कहा, "यह 'सत्य' के लिए संघर्ष है और अंततः सत्य की जीत होगी।"

एनसीपी (शरद पवार) के वरिष्ठ नेता अनिल देशमुख ने सभी विपक्षी दलों और उनके नेताओं को जानबूझकर परेशान करने के लिए ईडी और सरकार की आलोचना की।


शिवसेना (यूबीटी) नेता आदित्य ठाकरे ने कहा कि देश में कानून का कोई शासन नहीं है और जो लोग सरकार के खिलाफ बोलते हैं उन्हें झूठे मामलों में फंसा दिया जाता है, जो एक सत्तावादी शासन की विशेषता है।

वहीं आदित्य ठाकरे ने आग्रह किया, "क्या हम भारत में हैं या पाकिस्तान जैसी किसी जगह पर... हम न्यायिक प्रणाली से कानून का शासन बनाए रखने की अपील करते हैं।"

सांसद संजय राउत ने केंद्रीय जांच एजेंसी की आलोचना करते हुए कहा कि "ईडी भारतीय जनता पार्टी की एक शाखा बन गई है" जो महाराष्ट्र और देश के अन्य विपक्षी शासित राज्यों में विपक्षी नेताओं को निशाना बना रही है।

सुले ने एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि देश में सभी 'आईसीई' मामलों (आईटी-सीबीआई-ईडी) में से लगभग 95 प्रतिशत विपक्ष के खिलाफ दर्ज किए जाते हैं और कहा कि यह लोकतंत्र के लिए खतरे को दर्शाता है।

ईडी के समक्ष पेश होने से पहले रोहित पवार शांत दिखे। उन्होंने नरीमन पॉइंट के एक पांच सितारा होटल में अपने परिवार के सदस्यों से विदाई ली, महाराष्ट्र विधानमंडल के समक्ष छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा तथा संविधान की पट्टिका पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए और नमन किया।

बाद में वह पार्टी कार्यालय पहुंचे, जो ईडी दफ्तर के ठीक सामने है। उन्होंने अपने उत्साहित और आक्रामक समर्थकों को शांत रहने की सलाह दी और ईडी की जांच में पूरा सहयोग करने का वादा किया।


सुप्रिया सुले ने उन्हें ईडी कार्यालय जाने से पहले एक फ़ाइल फ़ोल्डर दिया जिसमें महाराष्ट्र के सभी महान नेताओं और सुधारकों की तस्वीरें थीं, और उन्हें दिवंगत एस.बी. चव्हाण पर एक पुस्तक भी भेंट की।

बारामती एग्रो लिमिटेड के सीईओ, रोहित पवार का नाम महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक (एमएससीबी) घोटाले से उत्पन्न कथित मनी-लॉन्ड्रिंग के आरोपों और ईडी के अवैध 'धन के डायवर्जन' के आरोपों पर अगस्त 2019 की मुंबई पुलिस एफआईआर मे है। उनकी कंपनी ने नुकसान में चल रहे चीनी सहकारी कारखाने को खरीदने के लिए बोली लगाई थी।

हालाँकि, उन्होंने लगातार सभी आरोपों से इनकार किया है और दावा किया है कि पुलिस और ईडी द्वारा लगाए गए आरोपों में कोई दम नहीं था, जिसने हाल ही में कंपनी पर छापा मारा था।

विपक्षी महा विकास अघाड़ी (एमवीए) मे सहयोगी कांग्रेस और शिवसेना (यूबीटी) के नेताओं ने चल रही कार्रवाई को बीजेपी द्वारा केंद्रीय जांच एजेंसियों के दुरुपयोग के माध्यम से प्रतिद्वंद्वियों का 'राजनीतिक प्रतिशोध' करार दिया है।

एनसीपी (शरद पवार) ने यह भी आरोप लगाया है कि रोहित पवार को इसलिए निशाना बनाया जा रहा है क्योंकि उन्होंने जुलाई 2023 में विभाजन के बाद राजनीतिक दबावों के आगे झुके बिना अपने चाचा उपमुख्यमंत्री अजित पवार के एनसीपी से अलग हुए गुट का समर्थन करने से इनकार कर दिया।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;