महाराष्ट्र : शरद पवार के घर पर परिवहन कर्मचारियों ने किया पथराव, राज्य सरकार ने दिए जांच के आदेश

महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम (एमएसआरटीसी) के बड़ी संख्या में आंदोलनकारी कर्मचारियों ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार के निजी, सुरक्षित, दक्षिण मुंबई स्थित आवास पर पथराव किया तथा जूते भी फेंके।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

काईद नजमी, IANS

महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम (एमएसआरटीसी) के बड़ी संख्या में आंदोलनकारी कर्मचारियों ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार के निजी, सुरक्षित, दक्षिण मुंबई स्थित आवास पर पथराव किया तथा जूते भी फेंके। हालांकि, इस हमले में किसी को चोट नहीं आई, जिसने शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार को हैरान कर दिया। हालांकि घटना के जांच के आदेश दिए गए हैं।

इस घटना से बेपरवाह, कुछ घंटों बाद, 81 वर्षीय, पवार खुद सामने आए और कहा कि वह हमेशा राज्य परिवहन कर्मचारियों के साथ खड़े रहे हैं। लेकिन उन्हें कुछ लोगों ने गुमराह कर दिया है। लगभग 100-125 नाराज राज्य परिवहन कर्मचारियों, जिसमें कई महिलाएं शामिल थीं, ने पहले एमएसआरटीसी को राज्य सरकार के साथ विलय करने की मांग को लेकर शोर-शराबा किया और पवार और एमवीए के खिलाफ नारेबाजी की।

तब कई महिलाओं के साथ एक छोटा समूह सिल्वर ओक्स बंगले में उच्च सुरक्षा वाले पवार आवास की ओर भागते हुए देखा गया। इनमें से कई सुरक्षा बैरिकेड्स को पार करते हुए, 'जय श्री राम' के नारे लगाते हुए आगे बढ़े और पथराव किया व जूते फेंके, जबकि कुछ दरवाजे तक पहुंचने में कामयाब रहे।


अचानक हुए 'हमले' से क्षुब्ध, एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले, पवार की बेटी, आंदोलनकारी राज्य परिवहन कर्मचारियों की भीड़ के बीच में दौड़ पड़ीं, और उनसे शांत रहने और बातचीत के लिए बैठने की अपील की।

सुले ने उनसे कहा, "हाथ जोड़कर, मैं आपसे विनती कर रही हूं.. कृपया शांत रहें, मेरे माता-पिता और मेरे बच्चे घर के अंदर हैं और मुझे उनकी सुरक्षा की चिंता है। इस तरह के व्यवहार न करें।"

पवार को जेड-प्लस श्रेणी की सुरक्षा दी गई है और इस घटना ने संभावित खुफिया विफलता पर सवाल उठाए हैं, खासकर जब गृह विभाग राकांपा के मंत्री दिलीप वाल्से-पाटिल के पास है।

मामले को बहुत गंभीरता से लेते हुए और पुलिस जांच का आदेश देते हुए, वाल्से-पाटिल ने एक 'अदृश्य राजनीतिक ताकत या एक राजनीतिक दल' का संकेत दिया, जो पवार के घर पर हमले की फिराक में था।

वाल्से-पाटिल ने कहा, "उन्होंने महिलाओं को सबसे आगे रखा ताकि पुलिस कोई प्रतिबंधात्मक कदम न उठा सके। हम मामले की जांच कर रहे हैं और दोषी पाए गए सभी लोगों को बख्शा नहीं जाएगा।"

इससे पहले, सुले ने राज्य परिवहन कर्मचारियों से बार-बार आग्रह किया कि वह 'इस समय बातचीत के लिए तैयार हैं', लेकिन वे सुनने के मूड में नहीं थे।


उन्होंने कहा, "मैं उनसे कहती रही.. मैं अभी चर्चा के लिए बैठ सकती हूं। कृपया इस आंदोलन को बंद करें। इससे कुछ नहीं निकलेगा। जब तक आप इस हंगामा को नहीं रोकेंगे, हम कैसे बात कर सकते हैं।"

इसके तुरंत बाद, वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की एक टुकड़ी वहां पहुंची और स्थिति को नियंत्रण में लाया गया।

एनसीपी के कई नेता और मंत्री जैसे जयंत पाटिल, जितेंद्र आव्हाड, राजेश टोपे, धनंजय मुंडे, मजीद मेमन, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले, मंत्री बालासाहेब थोराट, सांसदों, विधायकों और अन्य ने पवार से मुलाकात की, और हमलों की जोरदार आलोचना की।

शिवसेना सांसद और मुख्य प्रवक्ता संजय राउत ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि हमले के पीछे एक 'अज्ञात राजनीतिक ताकत' है जो राज्य के इतिहास में कभी नहीं हुआ।

राउत ने कहा, "शिवसेना ने अतीत में कई आंदोलन किए हैं, लेकिन हमने कभी किसी सम्मानित राजनीतिक नेता पर पथराव नहीं किया। जो हुआ वह घृणित है।"

आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति की सदस्य प्रीति शर्मा-मेनन ने पवार और उनके परिवार पर हुए हमले की निंदा करते हुए इसे भाजपा की साजिश बताया। उन्होंने कहा कि इसके लिए (विपक्ष के नेता) देवेंद्र फडणवीस को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 08 Apr 2022, 10:52 PM