अमित शाह के डिप्टी निसिथ प्रमाणिक पर लगे कई बड़े आरोप, शिक्षा, जन्म स्थान और आपराधिक मामलों को लेकर सवाल

भारत के नए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री निसिथ प्रमाणिक अपनी वास्तविक शिक्षा, जन्म स्थान और अपने खिलाफ अभी भी कई आपराधिक मामलों को लेकर कई विवादों में हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

भारत के नए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री निसिथ प्रमाणिक अपनी वास्तविक शिक्षा, जन्म स्थान और अपने खिलाफ अभी भी कई आपराधिक मामलों को लेकर कई विवादों में हैं। बांग्लादेश में स्थित एक फेसबुक पेज 'पुजार माला' ने इस हफ्ते पोस्ट करके विवाद खड़ा कर दिया कि प्रमाणिक का जन्म दक्षिण एशियाई देश में स्थित गैबंधा के हरिनाथपुर में हुआ था।

प्रमाणिक की आधिकारिक प्रविष्टियों में कहा गया है कि उनका जन्म 17 जनवरी 1986 को पश्चिम बंगाल के कूचबिहार जिले के दिनहाटा में हुआ था। प्रमाणिक ने अभी तक 'पुजर माला' पोस्ट का कोई जवाब नहीं दिया है।

तृणमूल के पूर्व विधायक पार्थ प्रतिम रॉय ने कहा कि प्रमाणिक को इस बारे में सफाई देनी चाहिए कि उनका जन्म भारत में हुआ है, या बांग्लादेश में। रॉय ने कहा, अगर बयान गलत है, तो उन्हें फेसबुक पेज के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा, "एक संबंधित नागरिक के रूप में, मैं दावा करता हूं कि प्रमाणिक को आरोपों को स्पष्ट करना चाहिए कि वह कूचबिहार का बेटा है या बांग्लादेश में गैबंधा का। या इस पेज के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करें और सच्चाई को सामने लाएं। हालांकि, मैंने सुना है कि एक और बांग्लादेशी पोर्टल है जिसमें ऐसा ही दावा किया है।"


35 साल की उम्र में प्रमाणिक नरेंद्र मोदी की नई कैबिनेट में सबसे कम उम्र के मंत्री हैं। वह बांग्लादेश और भूटान की सीमा से लगे कूचबिहार जिले के पहले केंद्रीय मंत्री भी हैं। सात जुलाई के कैबिनेट फेरबदल के बाद नए गृह राज्य मंत्री बनाए जाने के बाद प्रमाणिक की शैक्षणिक योग्यता को लेकर भी विवाद खड़ा हो गया है।

प्रमाणिक, जो 2019 में तृणमूल कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए, उन्होंने इस गर्मी में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में एक सीट जीती, लेकिन अपनी लोकसभा सदस्यता बरकरार रखने के लिए इस्तीफा दे दिया। उन्होंने दोनों हलफनामों में 'माध्यमिक परीक्षा' या माध्यमिक परीक्षा को अपनी सर्वोच्च शैक्षणिक योग्यता बताया था।

एक विधानसभा चुनाव के लिए 18 मार्च 2021 को प्रस्तुत किया गया था, और एक लोकसभा चुनाव के लिए 25 मार्च, 2019 को प्रस्तुत किया गया था। हालांकि, लोकसभा वेबसाइट पर प्रमाणिक की प्रोफाइल कहती है कि उनकी शैक्षणिक योग्यता 'बैचलर्स ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (बीसीए) एजुकेटिड एट बालाकुरा जूनियर बेसिक स्कूल है।'

टीएमसी के पूर्व विधायक उदयन गुहा ने पूछा, "मार्च में, उनकी उच्चतम शैक्षणिक योग्यता यह थी कि वह उच्च माध्यमिक परीक्षा में उपस्थित हुए थे, उन्होंने अपने हलफनामे में यह स्पष्ट नहीं किया कि क्या उन्होंने परीक्षा उत्तीर्ण की है। और अब, जुलाई में, उनके पास स्नातक की डिग्री है?" गुहा ने आरोप लगाया कि प्रमाणिक की लोकसभा प्रोफाइल जिस स्कूल का जिक्र करती है, वह एक गैर-वर्णित जूनियर स्कूल है जहां बीसीए जैसा कोई कोर्स कभी पेश नहीं किया गया। "यह एक जूनियर बेसिक स्कूल है, तो यह स्नातक की डिग्री कैसे प्रदान कर सकता है?"


हालांकि प्रमाणिक के प्रोफाइल में यह उल्लेख नहीं है कि स्कूल ने उन्हें डिग्री दी थी। बताया जा रहा है कि स्कूल में कोर्स कराया गया था। हालांकि, प्रोफाइल में यह भी उल्लेख नहीं है कि किस संस्थान ने डिग्री की पेशकश की, भले ही स्कूल परिसर का उपयोग स्थल के रूप में किया गया हो।

प्रमाणिक कूच बिहार में एक टीएमसी युवा विंग के नेता थे, जिन्हें पार्टी ने 2018 में निष्कासित कर दिया था। जिसके बाद वह मुकुल रॉय के सक्रिय नेतृत्व में बीजेपी में शामिल हो गए। टीएमसी के दिग्गज नेता रॉय 2017 में बीजेपी में शामिल हुए थे, लेकिन 2021 के राज्य विधानसभा चुनावों के बाद अपनी पुरानी पार्टी में लौट आए।

प्रमाणिक ने 2019 के हलफनामे में अपने खिलाफ 11आपराधिक मामलों और 2021 के हलफनामे में 13 मामलों का उल्लेख किया है, जिसमें हत्या, डकैती, चोरी और विस्फोटक रखने के आरोप शामिल हैं। पश्चिम बंगाल बीजेपी के किसी भी वरिष्ठ नेता ने उनकी शैक्षणिक योग्यता के विवाद पर यह कहते हुए टिप्पणी नहीं की कि प्रमाणिक इसका जवाब देने के लिए सबसे अच्छे व्यक्ति है।

प्रमाणिक ने आईएएनएस सहित मीडिया के सवालों का कोई जवाब नहीं दिया। पश्चिम बंगाल पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष भी अपनी वास्तविक शैक्षणिक योग्यता को लेकर इसी तरह के विवाद में शामिल रहे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia