नूपुर शर्मा के बयान पर कई शहरों में बड़े पैमाने पर विरोध-प्रदर्शन, गिफ्तारी की मांग

बीजेपी की पूर्व प्रवक्ता नुपुर शर्मा और नवीन जिंदल की विवादास्पद टिप्पणी के बाद उत्पन्न हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। शुक्रवार को देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हुए।

फोटो: ANI
फोटो: ANI
user

नवजीवन डेस्क

बीजेपी की पूर्व प्रवक्ता नुपुर शर्मा और नवीन जिंदल की विवादास्पद टिप्पणी के बाद उत्पन्न हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। शुक्रवार को देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं और आंदोलनकारियों ने दोनों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए उनकी गिरफ्तारी की मांग की है। उक्त नेताओं ने कथित तौर पर पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ विवादास्पद टिप्पणी की थी।

दिल्ली, उत्तर प्रदेश, रांची, अहमदाबाद, नवी मुंबई, लुधियाना, हैदराबाद और जम्मू-कश्मीर में विरोध प्रदर्शन हुए। प्रयागराज में विरोध हिंसक हो गया और पुलिस को कई लोगों के खिलाफ कार्रवाई करनी पड़ी। हालांकि स्थिति नियंत्रण में है।


दिल्ली में, कुछ अल्पसंख्यक क्षेत्रों में दुकानें आंशिक रूप से बंद रहीं और किसी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। राष्ट्रीय राजधानी में जामा मस्जिद पर भारी विरोध प्रदर्शन हुआ।

दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "लोग महज 15-20 मिनट के लिए बड़ी संख्या में जमा हो गए थे, जिसके बाद भीड़ तितर-बितर हो गई। स्थिति अब नियंत्रण में है।"

अल्पसंख्यक समुदाय के लोग जुमे की नमाज के तुरंत बाद जामा मस्जिद के बाहर सीढ़ियों पर जमा हो गए थे और वे भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नुपुर शर्मा और नवीन जिंदल के खिलाफ तख्तियां लिए हुए थे।

आंदोलनकारी निलंबित बीजेपी नेताओं की तत्काल गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। अधिकारी ने कहा, "दिल्ली पुलिस की पूर्व अनुमति के बिना विरोध प्रदर्शन किया गया है, इसलिए कानूनी कार्रवाई शुरू की जाएगी।"


जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी ने कहा कि विरोध के लिए कोई आह्वान नहीं किया गया था। बुखारी ने दावा किया, "मैं नहीं जानता कि प्रदर्शनकारी कौन हैं।"

मुस्लिम देशों द्वारा इस मुद्दे पर विरोध करने के बाद भारत को पैगंबर पर टिप्पणी के मामले में आलोचनाओं और निंदा का सामना करना पड़ रहा है। इस मुद्दे पर कतर, कुवैत, यूएई और ईरान जैसे मुस्लिम बहुल देशों ने ने बयान जारी किए।

हालांकि, सरकार ने कहा है कि यह बयान नेताओं के निजी विचार थे और इससे सरकार को विचार प्रदर्शित नहीं हुए हैं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia