मेरठ किसान महापंचायत में उमड़ी भारी भीड़, प्रिंयका बोलीं- जब तक ये काले कानून वापस नहीं होंगे, हम डटे रहेंगे

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अपने चौथे दौरे में आज प्रियंका गांधी ने मेरठ के सरधना विधानसभा के गांव कैली दादरी में आयोजित किसान महापंचायत में किसान अधिकारों की क्रांतिकारी आवाज बुलंद की।

फोटो: आस मोहम्मद कैफ
फोटो: आस मोहम्मद कैफ
user

आस मोहम्मद कैफ

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अपने चौथे दौरे में आज प्रियंका गांधी ने मेरठ के सरधना विधानसभा के गांव कैली दादरी में आयोजित किसान महापंचायत में किसान अधिकारों की क्रांतिकारी आवाज बुलंद की। प्रियंका ने कहा कि मैं तब -तब आपके साथ हूं ,जब-जब आप दुःखी होंगे, अब यह चाहे 100 दिन हो या 100 महीने। प्रियंका को सुनने यहां हजारों किसान जुटे और खासकर महिलाओं द्वारा उनका एक दर्जन से ज्यादा जगह हुआ स्वागत तो अद्वितीय रहा।

फोटो: आस मोहम्मद कैफ
फोटो: आस मोहम्मद कैफ

प्रियंका गांधी ट्रैक्टर पर सवार होकर किसान महापंचायत में पहुंची थीं। ट्रैक्टर को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान नेता पंकज मलिक चला रहे थे। प्रियंका गांधी की पश्चिमी उत्तर प्रदेश में यह चौथी बड़ी पंचायत है। इससे पहले वो सहारनपुर, बिजनौर और मुजफ्फरनगर में पंचायत कर चुकी हैं। खास बात यह है कि यह सभी पंचायतें ग्रामीण क्षेत्रों में आयोजित की गई है। आज भी मेरठ की विधानसभा सरधना के गांव केली दादरी में पंचायत का आयोजन हुआ। प्रियंका गांधी ने यहां मंच से बीजेपी पर जमकर हमला बोला, उन्होंने कहा कि अंग्रेजों की ही तरह बीजेपी सरकार किसानों का शोषण कर रही है।

फोटो: आस मोहम्मद कैफ
फोटो: आस मोहम्मद कैफ

प्रियंका गांधी रविवार दोपहर ढाई बजे सरधना विधानसभा के कैली गांव में आयोजित किसान महापंचायत में पहुंचीं, जहां उन्होंने क्षेत्र की जनता से कांग्रेस को मजबूत करने के लिए आशीर्वाद मांगा। मेरठ पहुंचने के दौरान रास्ते में दर्जनों स्थानों पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस महासचिव का स्वागत किया। लोगों में इस दौरान जबरदस्त जुनून दिखा और वो प्रियंका को अपने बीच पाकर अभिभूत थे। मंच तक पहुंचने के लिए उन्होंने ट्रैक्टर की सवारी को चुना और इसके लिए खेतों से गुजर कर आईं। इसने किसान प्रियंका गांधी से काफी प्रभावित दिखे।

फोटो: आस मोहम्मद कैफ
फोटो: आस मोहम्मद कैफ

प्रियंका गांधी ट्रैक्टर में सवार होकर मंचस्थल तक पहुंची और क्षेत्र की जनता का अभिवादन किया। उन्होंने मंच से किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि यह मेरठ की धरती है। यहीं से स्वतंत्रता संग्राम का पहला विद्रोह शुरू हुआ। उस आजादी की लड़ाई में किसान शामिल रहे। हजारों किसान आंदोलन में जुटे। बहुत लोग शहीद हुए। अंग्रेजी साम्राज्य किसानों को परेशान कर रहा था। बीजेपी की सरकार भी किसानों का शोषण कर रही है। ऐसे कानून हैं जिससे आपकी कमाई ठीक से नहीं मिल पाएगी। ये कृषि कानून बड़े उद्योगपतियों को लाभ देगा। तीनों कृषि कानून में खरबपति और दूसरी तरफ आप, तो आपको क्या लाभ मिलेगा।

फोटो: आस मोहम्मद कैफ
फोटो: आस मोहम्मद कैफ

उन्होंने कहा कि इन कानूनों को बनाने से पहले किसी किसान से नहीं पूछा गया। आज सौ दिन पूरे हो गए। किसान दिल्ली बॉर्डर पर क्यों बैठे हैं, अगर कानून आप लोगों के लिए बने हैं। किसानों ने इस देश को आजादी दिलाई। किसान में हिम्मत की कमी नहीं। आत्मशक्ति की कमी नहीं है। अगर किसान बॉर्डर पर बैठा है, तो क्या प्रधानमंत्री को उसका आदर नहीं करना चाहिए। पानी काटा गया, बिजली काटी गई?

प्रियंका ने कहा कि अमेरिका, पाकिस्तान, चीन घूमकर आए लेकिन अपने यहां ही नहीं जा रहे। उनकी सरकार बड़े बड़े उद्योगपतियों के लिए चल रही है। उनके केवल दो ही मित्र हैं। बिजली के दाम बढ़ गए, पेट्रोल-डीजल का दाम बढ़ गया। हर तरफ से आप पर वार हो रहा है। इस स्थिति को बदलने के लिए खड़े रहना पड़ेगा। आपकी जो परिस्थिति सरकार ने बनाई है। यही परिस्थिति आपको सरकार की बनानी है।

प्रियंका गांधी ने मंच से कहा कि उत्तर प्रदेश का बकाया 10 हजार करोड़ है। मोदी जी ने दो हवाई जहाज खरीदे है। 16 हजार करोड़ में हवाई जहाज खरीदे हैं। पूरे देश का बकाया 15 हजार करोड़ है। संसद के सौन्द्रीयकर्ण के लिए 20 हजार करोड़ रखे हैं। आपके बीमे से 26 हजार करोड़ गए उनके दोस्तों की जेब में।

उन्होंने किसानों से कहा कि आपने कई वर्षों से जुल्म सह लिए हैं। 215 किसान शहीद हुए। सरकार का एक भी सांसद संसद में खड़ा नहीं हुआ। प्रधानमंत्री मोदी ने आपका मजाक उड़ाया। किसान को परिजीवी कहा। आपको समझना पड़ेगा कि आपके पक्ष में है या हित में है। अब समय आ गया है आप जाग जाएं। अंत मे प्रियंका गांधी ने किसानों के शहीद होने पर दो मिनट का मौन रखवाया।

यहां पहुंचे किसान शोराज सिंह ने बताया कि आज यहां रिकॉर्ड भीड़ जुटी है। किसान यहां प्रियंका गांधी को सुनने आए थे। मैंने भी उन्हें पहली बार सुना है। बहुत गंभीरता से बात करती हैं। शहीदों के लिए मौन करवा कर उन्होंने भावुक कर दिया है। हम गलती पर थे ,हमने उन्हें बेगाना समझ लिया था जो हमारे दुख दर्द में है और जिन्हें अपना लिया था वो पराए निकले हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय