वसुंधरा सरकार में मंत्री के बेटों ने युवक का अपहरण कर बेरहमी से पीटा, गंभीर हालत में पीड़ित अस्पताल में भर्ती

<p>राजस्थान सरकार में मंत्री हेमसिंह भड़ाना के बेटों पर अलवर में एक युवक का अपहरण कर पिटाई करने का आरोप लगा है। मारपीट में गंभीर रूप से घायल युवक का अस्पताल में इलाज चल रहा है।</p>

<p>फोटो: सोशल मीडिया</p>

फोटो: सोशल मीडिया

user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान सरकार में सामान्य प्रशासन मंत्री हेमसिंह भड़ाना के बेटों और उनके साथियों पर अलवर में युवक का अपहरण कर उसकी बेरहमी से पिटाई करने का आरोप लगा है। मारपीट में घायल युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पूरा मामला 19 दिसंबर का है। पीड़ित के मुताबिक शाम करीब चार बजे वह शिवाजी पार्क के ब्लॉक-3 में अपने किराए के कमरे में था। इसी दौरान मंत्री हेमसिंह भड़ाना के दोनों बेटे हितेश सिंह, सुरेंद्र सिंह और उनके कई साथी कमरे पर पहुंचे और बंदूक के बल पर उसका अपहरण कर लिया। अपहरण के बाद उसे वीर सावरकर नगर में अपने घर ले गए और उसके साथ मारपीट की। मारपीट में युवक को हाथ, पैर और सिर में गंभीर चोटें आईं हैं।

बताया जा रहा है कि युवक से मारपीट से एक दिन पहले यानी 18 दिसंबर को मंत्री हेमसिंह भड़ाना को उनके घर के बाहर आए कार सवार कुछ अज्ञात लोगों ने गालियां दी थीं। इसके बाद वे फरार हो गए थे। पीड़ित युवक के पिता के मुताबिक, जिस समय अज्ञात लोगों ने मंत्री हेमसिंह भड़ाना को गालियां दीं, उस वक्त उनका बेटा वहां खड़ा था। उनका कहना है कि मंत्री को गाली देने के आरोप में ही उनके बेटे की बुरी तरह से पिटाई की गई है, जबकि गाली देने वालों से उनके बेटे का कोई लेना-देना नहीं था।

मंत्री हेमसिंह भड़ाना ने अपने बेटों पर लगे अपहरण और मारपीट के आरोप को लेकर सफाई दी है। उन्होंने कहा, “मेरे बेटों पर जो भी आरोप लगाए गए हैं वे गलत हैं।” उधर पूरे मामले में एसपी राहुल प्रकाश ने बताया कि केस दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।

यह कोई पहला मामला नहीं है जब मंत्री हेमसिंह भड़ाना के बेटों पर दबंगई का आरोप लगा है। इस घटना से कुछ साल पहले भड़ाना के बेटे सुरेंद्र सिंह पर महिलाओं के साथ छेड़छाड़ का आरोप लगा था। आरोप था कि अलवर के शालीमार सोसाइटी में नशे में सुरेंद्र सिंह ने महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की थी। उस समय मंत्री हेमसिंह भड़ाना राजस्थान सरकार में खाद्य और आपूर्ति मंत्री थे। छेड़छाड़ की घटना को लेकर उस वक्त राजस्थान विधानसभा में हंगामा भी हुआ था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */