मॉब लिंचिंग: असम में 73 वर्षीय डॉक्टर की पीट-पीट कर हत्या, मजदूर की इलाज के दौरान मौत से नाराज थे चाय बागानकर्मी

बागान के कर्मचारी अपने साथी सोमरा माझी की इलाज के दौरान मौत हो जाने से नाराज थे, जिसके लिए गुस्से में उन्होंने डॉक्टर देबेन दत्ता को इतना मारा कि उनकी मौत हो गई।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

देश में मॉब लिंचिंग के घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। ताजा मामला असम के जोरहाट जिले का है, जहां चाय के बागान में काम करने वाले कुछ मजदूरों ने मिलकर एक 73 वर्षीय डॉक्टर की पीट-पीट कर हत्या कर दी। घायल अवस्था में डॉक्टर को बागान के ही एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया। डॉक्टर का नाम देबेन दत्ता बताया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक बागान के कर्मचारी अपने साथी सोमरा माझी की इलाज के दौरान मौत हो जाने से नाराज थे, जिसके लिए गुस्से में उन्होंने डॉक्टर देबेन दत्ता को इतना मारा कि उनकी मौत हो गई। जोरहाट जिले की उपायुक्त रोशनी अपरंजी कोराटी ने कहा, 'सोमरा माझी की मौत के बाद उसके साथियों ने 73 वर्षीय डॉक्टर की कथित तौर पर पिटाई की। माझी का बागान के ही अस्पताल में इलाज चल रहा था।’

कोराटी ने बताया कि साथी की मौत से गुस्साए चाय बागान कर्मियों ने अस्पताल को घेर लिया था। सूचना पाकर घटनास्थल पर पहुंची पुलिस के टीम ने डॉक्टर को उन लोगों से बचाते हुए उसे जोरहाट चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल स्थानांतरित किया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

इस मामले में जिला मजिस्ट्रेट ने सख्ती दिखाते हुए पूरे मामले की जांच और 7 दिन में इसकी पूरी रिपोर्ट जमा करने के आदेश दिए है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है। वहीं दूसरी ओर 'असम वैली कंसलटेटिव कमेटी ऑफ प्लांटेशन एसोसिएशन' (सीसीपीए) ने घटना की निंदा की और प्रशासन से मामले के दोषियों पर सख्त कार्रवाई की मांग की।

लोकप्रिय