#MeToo पर मोदी सरकार की गंभीरता उजागर, राजनीतिक टिप्पणी के बहाने से राजनाथ ने उड़ाया मजाक

अपने मंत्री एम जे अकबर पर कई महिलाओं द्वारा यौन उत्पीड़न के आरोप लगाने के बाद उन पर कार्रवाई में देरी पर पहले ही सवालों के घेरे में आई मोदी सरकार अब राजनाथ सिंह के ताजा बयान से एक बार फिर विवादों में आ गई है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

देश में महिलाओं के साथ कार्यस्थलों पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ शुरू हुए #MeToo अभियान के तहत खुलासों पर मोदी सरकार कितनी गंभीर है, इसका पता केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के ताजा बयान से चलता है। शनिवार को हैदराबाद में एक सार्वजनिक मंच से देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने महिलाओं की सुरक्षा से जुड़े इस पूरे अभियान का ना सिर्फ मजाक उड़ाया बल्कि उसे राजनीतिक रंग देने की भी कोशिश की। एक कार्यक्रम में भाषण देते हुए राजनाथ सिंह ने कहा, “बाद में कहीं ऐसे हालात ना हो जाएं कि सारी विपक्षी पार्टियां आपस में गठबंधन कर लें और फिर बाद में जब वो कांग्रेस से धोखा खा जाएं तो #MeToo कैंपेन चलाने के लिए मजबूर हो जाएं।” दरअसल राजनाथ विपक्षी दलों के गठबंधन की कोशिशों पर प्रहार करने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन राजनीतिक प्रहार करने के लिए उन्होंने महिलाओं से जुड़े एक गंभीर सामाजिक मुद्दे का मजाक उड़ा दिया।

खास बात ये है कि देश में #MeToo मुहिम के तहत केंद्र सरकार के राज्यमंत्री एम जे अकबर का नाम आने और उनका इस्तीफा होने के बाद मोदी सरकार ने ऐसी शिकायतों को देखने के लिए गृह मंत्री राजनाथ सिंह की ही अगुवाई में मंत्रियों के एक समूह का गठन किया है। इस समिति में केंद्रीय महिला कल्याण और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और पथ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को शामिल किया गया है।

अब ऐसे में राजनाथ सिंह के ताजा बयान से महिलाओं के साथ होने वाले यौन उत्पीड़न के मामलों में मोदी सरकार की गंभीरता पर सवाल खड़े होते हैं। जिस व्यक्ति को ऐसे गंभीर मामलों को रोकने और उनपर कार्रवाई के लिए कानूनों और संस्थानों को मजबूत करने का जिम्मा दिया गया है, वही खुद सार्वजनिक मंच से यौन उत्पीड़न के खिलाफ उठ रही आवाजों का मजाक उड़ाएगा तो उसे रोकने के लिए क्या कदम उठाएगा।

अपनी सरकार में मंत्री रहे एम जे अकबर पर कई महिलाओं के यौन उत्पीड़न के आरोप लगाने के बाद उनपर कार्रवाई में देरी पर पहले से ही सवालों के घेरे में आई मोदी सरकार अब राजनाथ सिंह के ताजा बयान से एक बार फिर विवादों में आ गई है। राजनाथ के इस बयान ने बीजेपी के चाल, चरित्र और चेहरे के दावे पर भी सवालिया निशान लगा दिया है।

लोकप्रिय