मुजफ्फरपुर कांडः नीतीश सरकार की मंत्री मंजू वर्मा ने दिया इस्तीफा, पति ने 17 बार आरोपी से की थी बात

बिहार की नीतीश सरकार में मंत्री मंजू वर्मा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है

बिहार सरकार की समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर और उनके पति चंद्रेश्वर वर्मा के बीच नजदीकी संबंधों की बात सामने आई थी।

बिहार समेत पूरे देश को शर्मसार करने वाले मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड की आंच अब नीतीश सरकार तक पहुंच गई है। इस मामले में मुख्य आरोपी से पति के करीबी संबंध की बात सामने आने के बाद नीतीश सरकार में मंत्री मंजू वर्मा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। मंजू वर्मा बिहार सरकार में समाज कल्याण मंत्री थीं और शेल्टर होम्स या आश्रय गृहों का मामला इसी मंत्रालय के अधीन आता है। एक दिन पहले मंजू वर्मा के पति चंद्रेश्वर वर्मा और कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के बीच लगातार फोन पर बातचीत होने के मामला सामने आया था। जिसके बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंजू वर्मा को बुलाया और उनका इस्तीफा ले लिया।

अपना इस्तीफा देने के बाद मंजू वर्मा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जिस कॉल डिटेल की बात की जा रही है, उसे सार्वजनिक किया जाना चाहिए, ताकि हमें पता चल सके कि मुख्य आरोपी और किससे बात करता था।

वहीं बुधवार को मामले में पेशी के लिए मुजफ्फरपुर की आदालत में लाए गए आरोपी ब्रजेश ठाकुर पर एक महिला ने स्याही फेंक दी। इस दौरान कुछ लोगों ने आरोपी के चेहरे पर कालिख पोतने की भी कोशिश की। हालांकि, वहां मौजूद पुलिस अधिकारियों ने उन्हें रोक दिया और ब्रजेश ठाकुर को कोर्ट में सुरक्षित ले गए।

इससे पहले मंजू वर्मा के पति चंद्रेश्वर वर्मा और मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के बीच करीबी संबंधों की बात सामने आई थी। खबरों के अनुसार ब्रजेश ठाकुर की कॉल डिटेल्स से यह खुलासा हुआ है कि जनवरी से अब तक ब्रजेश की मंत्री मंजू वर्मा के पति से 17 बार फोन पर बातचीत हुई थी। इस खुलासे के सामने आने के बाद से मंजू वर्मा पर मंत्री पद से इस्तीफे का दबाव बन रहा था। जिसके बाद बुधवार दोपहर बाद उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को अपना इस्तीफा सौंप दिया।

खबरों के मुताबिक कॉल रिकॉर्ड की जांच में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि मंत्री मंजू वर्मा के पति पिछले कुछ महीनों में एक बार नहीं, बल्कि 9 बार मुजफ्फरपुर गये थे। हालांकि, यहां गौर करने वाली बात ये है कि न तो मंत्री और न ही उनके पति का गृह जिला मुजफ्फरपुर है। इतनी बार मुजफ्फरपुर जाना यह दर्शाता है कि वो किसी विशेष काम से वहां लगातार जा रहे थे।

बता दें कि मुजफ्फरपुर कांड में अब तक वहां रह रही 42 में से 34 बच्चियों के साथ रेप की पुष्टि हुई है। इस घटना के सामने आने के बाद बिहार समेत पूरे देश में हंगामा खड़ा हो गया था। विपक्षी दलों ने पटना से लेकर दिल्ली तक विरोध प्रदर्शन किया था। बिहार से कांग्रेस सासंद रंजीत रंजन ने लोकसभा में घटना को उठाते हुए पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

सबसे लोकप्रिय

अखबार सब्सक्राइब करें