सड़कों और स्टेशन के बाद अब आईआरसीटीसी का नाम बदलने की तैयारी, रेल मंत्री को नहीं है पसंद यह नाम

भारतीय रेल के उपभोक्ताओं को सेवा देने वाला आईआरसीटीसी ई-कॉमर्स के क्षेत्र में बड़ा नाम है। एक रिपोर्ट के मुताबिक इसकी वेबसाइट से रोजाना करीब 5,73,000 टिकट बुक किये जाते हैं। टिकट के अलावा, आईआरसीटीसी पर ऑन बोर्ड खान-पान और अन्य कई सुविधाएं भी उपलब्ध हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी की सरकार आने के बाद से देश में सड़कों, शहरों, गांवों और रेलवे स्टेशन के नाम बदलने का एक तरह से चलन चल पड़ा है। हाल ही में यूपी की बीजेपी सरकार की सिफारिश पर रेल मंत्रालय ने यूपी के बेहद अहम रेलवे जंक्शन मुगलसराय का नाम बदलकर दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर किया है। इसी कड़ी में अब रेलवे से जुड़े ई-कॉमर्स प्लेयर आईआरसीटीसी (भारतीय रेलवे खानपान और पर्यटन निगम) का नाम बदलने की तैयारी चल रही है। खबरो के मुताबिक रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आईआरसीटीसी का नाम बदलने के लिए कहा है।

दरअसल आईआरसीटीसी नाम रेल मंत्री गोयल को नहीं भा रहा है। इसीलिए उन्होंने इसे बदलकर कोई आकर्षक नाम रखने के लिए कहा है। रेल मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि आईआरसीटीसी का नाम लेना और उसे याद रखना थोड़ा कठिन है। कई बार ये नाम याद नहीं रहता है। गोयल के अनुसार इसकी जगह कोई ऐसा नाम होना चाहिए जिसे याद रखना आसान हो और इंटरनेट पर सर्च करते समय कोई भूले नहीं।

नये नाम के लिए रेलवे अधिकारियों ने कुछ नाम भी सुझा दिये हैं। जिसमें एक नाम ‘रेलट्रेवल’ सुझाया गया है। हालांकि, अभी कोई नाम अंतिम रूस तय नहीं हुआ है और ये कब तक होगा इसकी भी जानकारी नहीं दी गई है। लेकिन दिल्ली के सियासी गलियारों में आईआऱसीटीसी के नाम बदले जाने को लेकर चर्चा तेज हो गई है।

बता दें कि भारतीय रेल का उपभोक्ता प्लेटफॉर्म आईआरसीटीसी भारत में एक बड़ा ई-कॉमर्स प्लेयर है। एक रिपोर्ट के मुताबिक इसकी वेबसाइट से रोजाना करीब 5,73,000 टिकट बुक किये जाते हैं। टिकट के अलावा, आईआरसीटीसी पर ऑन बोर्ड खान-पान और अन्य कई सुविधाएं भी उपलब्ध हैं। इस समय देश में आईआरसीटीसी के 3 करोड़ से भी ज्यादा रजिस्टर्ड उपभोक्ता हैं।

लोकप्रिय