Nirbhaya Case: सुप्रीम कोर्ट में गिड़गिड़ाया दोषी पवन, कहा- उम्रकैद दे दो, फांसी पर मत लटकाओ

दिल्ली गैंगरेप केस में दोषियों के वकील ने एक और चाल चल दी है। दोषी पवन ने वकील एपी सिंह के जरिए कोर्ट में क्यूरेटिव याचिका दाखिल की है और दोषी पवन की फांसी की सजा को आजीवन कारावास में बदलने की मांग की है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

निर्भया गैंगरेप केस के आरोपी को बचाने के लिए वकील एपी सिंह ने एक और चाल चली है। फांसी से तीन दिन पहले शुक्रवार को दोषी पनव गुप्ता ने अपने वकील के जरिए सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव याचिका दाखिल की है। याचिका में मांग की गई है कि दोषी पवन गुप्ता की सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया जाए। इसके अलावा दोषी पवन ने निचली अदालत की तरफ से जारी किए डेथ वारंट पर भी रोक लगाने की मांग की है।

पवन के पास अभी एक विकल्प और है

पवन के वकील एपी सिंह ने क्यूरेटिव याचिका दाखिल करते हुए कहा कि पवन को फांसी की सजा नहीं दी जानी चाहिए। आपको बता दें, निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले में इससे पहले तीन दोषियों मुकेश, विनय और अक्षय की दया याचिकाएं पहले ही राष्ट्रपति ने खारिज कर दी थी। चारों में से सिर्फ पवन गुप्ता ही एक ऐसा दोषी है जिसने अभी तक अपने सभी कानूनी विकल्प खत्म नहीं किए हैं। पवन के पास अभी राष्ट्रपति के पास दया याचिका दाखिल करने का भी विकल्प है। इन सबके अलावा अक्षय ने अभी राष्ट्रपति की दया याचिका खारिज करने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती भी नहीं दी है। जबकि दो अन्य दोषियों ने दया याचिका खारिज होने के बाद सुप्रीम कोर्ट में राष्ट्रपति के फैसले को चुनौती दी थी।


फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

क्या फिर टल सकती है दोषियों की फांसी ?

बता दें, ट्रायल कोर्ट ने 17 फरवरी को चार दोषियों मुकेश कुमार सिंह, पवन गुप्ता, विनय कुमार शर्मा और अक्षय कुमार के खिलाफ 3 मार्च को डेथ वारंट जारी किया है। कोर्ट ने तीन मार्च सुबह 6 बजे चारों दोषियों को फांसी देने का आदेश दिया है। माना जा रहा है कि पवन के इस याचिका के बाद एक बार फिर फांसी टल सकती है। कानूनी प्रावधानों के मुताबिक जब तक किसी दोषी के सभी कानूनी उपाय खत्म नहीं हो जाते तब तक उसे फांसी नही दी जा सकती। अगर कोर्ट से दोषी की याचिका खारिज भी हो जाती है तब भी उसे अन्य कानूनी विकल्पों के लिए 14 दिन का समय मिलता है।

निर्भया की वकील ने कहा था- 3 तारीख को फांसी जरूर होगी

उधर, निर्भया के परिवार की वकील सीमा कुश्वाहा ने नवजीवन से खास बातचीत में दावा किया था कि 2 मार्च की रात सभी दोषियों की आखिरी रात होगी। सीमा कुश्वाहा ने कहा था कि दोषियों के वकील लगातार उन दरिंदों को बचाने में लगे है, लेकिन अब बहुत देर हो गई है। क्योंकि उनके पास जितने भी कानूनी विकल्प थे वो उन्होंने इस्तेमाल कर लिए हैं। इतना ही नहीं सीमा कुश्वाहा ने बताया था कि भ्रम फैलाने के लिए दोषियों के वकील एपी सिंह ये तक कह रहे हैं कि ये फांसी अनिश्चितकाल के लिए टल सकती है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;