भारत में बढ़ते कोविड मामलों के लिए ओमिक्रॉन के सब-वेरिएंट जिम्मेदार, जरूर माने डॉक्टरों की ये सलाह

भारत में लगातार दूसरे दिन कोविड-19 के मामलों की संख्या अचानक बढ़ने की रिपोर्ट पर डॉक्टरों ने गुरुवार को कहा कि कोविड के मामले बढ़ने के लिए ओमिक्रॉन के सब-वेरिएंट जिम्मेदार हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

भारत में लगातार दूसरे दिन कोविड-19 के मामलों की संख्या अचानक बढ़ने की रिपोर्ट पर डॉक्टरों ने गुरुवार को कहा कि कोविड के मामले बढ़ने के लिए ओमिक्रॉन के सब-वेरिएंट जिम्मेदार हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि भारत में पिछले 24 घंटों में कोविड के 7,240 नए मामले दर्ज किए, जो पिछले दिन आए 5,233 मामलों से अधिक हैं।

महाराष्ट्र में 2,701 ताजा मामले दर्ज किए गए, 25 जनवरी के बाद से सबसे ज्यादा है, जबकि केरल में पिछले 24 घंटों में 2,271 नए मामले दर्ज किए गए और राष्ट्रीय राजधानी में 564 मामले दर्ज किए हैं।

मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, हालांकि डॉक्टर उन्हें हल्का बता रहे हैं, यह देखते हुए कि संक्रमित लोगों में लक्षण 2-3 दिनों के भीतर हल हो जाते हैं और अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं पड़ती।


ग्लोबल हॉस्पिटल, मुंबई में सीनियर कंसल्टेंट-इंटरनल मेडिसिन मंजूषा अग्रवाल ने आईएएनएस से कहा, "मैंने देखा है कि हाल ही में कोविड पॉजिटिव मरीज 48 से 72 घंटों में बेहतर हो रहे हैं। किसी को भी रेमडेसिविर या इम्यूनोथेरेपी की जरूरत नहीं है। मरीजों को कोई बड़ी जटिल समस्या नहीं होती।"

उन्होंने कहा कि टीकाकरण के कारण संक्रमितों को गंभीर परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता। मंजूषा ने कहा, "यह जनवरी की तुलना में हल्की लहर है। या हम कह सकते हैं कि यह कोविड की सबसे हल्की लहर है।"

फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट के आंतरिक चिकित्सा निदेशक सतीश कौल ने आईएएनएस को बताया कि वह नियमित रूप से ओपीडी में कोविड के लक्षणों वाले रोगियों को देख रहे हैं। कौल ने आईएएनएस को बताया, "संक्रमित रोगियों में बुखार, गले में खराश या शरीर में दर्द, थकान और खांसी के बाद गले में जलन के लक्षण शुरू होते हैं।"

उन्होंने कहा कि ये लक्षण ओमिक्रॉन के रोगियों में देखे गए लक्षणों के जैसे ही हैं।

उन्होंने कहा, सब-वेरिएंट इम्यूनिटी से बचने की कोशिश करता दिख रहा है, जिसका मतलब है कि यह वैक्सीन से बढ़ने वाली इम्यूनिटी और पिछले कोविड-19 संक्रमण से प्राप्त इम्यूनिटी के कारण ज्यादा दिन टिक नहीं पाता।


गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में आंतरिक चिकित्सा की वरिष्ठ निदेशक सुशीला कटारिया के अनुसार, नए मामले 'ओमिक्रॉन वंश के हैं और ये संभवत: बीए.2 वेरिएंट' हैं।

महाराष्ट्र और तमिलनाडु ने कथित तौर पर ओमिक्रॉन के बीए 4 और बीए 5 वेरिएंट के मामलों का पता लगाया है। कटारिया कहा कि संक्रमित लोग घरेलू दवा से ठीक हो रहे हैं और घबराने की जरूरत नहीं है।

डॉक्टरों ने कहा, "यदि आप मास्क पहनते हैं और सभी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हैं, तो यह आपको बीमार नहीं पड़ने में मदद करेगा। लोगों को प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए, भले ही सरकार ने उसे अनिवार्य न किया हो।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia