कश्मीर के हालातों पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का दावा, कहा- घाटी में स्थिति सामान्य, प्रतिबंध बस लोगों के दिमाग में

एक सेमिनार में अपने भाषण के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, “कश्मीर में अब किसी भी तरह का प्रतिबंध नहीं हैं। यह बस लोगों के दिमाग में है। फोन कनेक्शन की कमी मानव अधिकारों का उल्लंघन नहीं है।”

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

करीब 2 महीने पहले केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाली धारा 370 को हटाए जाने के बाद से अब तक घाटी में हालात पूरी तरह सामान्य नहीं हुए हैं। कश्मीर में इंटरनेट और संचार सेवाएं बंद हैं। राज्य के बड़े नेता अपने ही घरों में कैदियों की तरह रहने को मजबूर हैं। इन सबके बावजूद गृह मंत्री अमित शाह ने बयान दिया है कि घाटी में हालात पूरी तरह सामान्य हैं।

अमित शाह ने रविवार को कहा कि कश्मीर घाटी में अब किसी भी तरह का प्रतिबंध नहीं हैं। यह बस लोगों के दिमाग में है। गृह मंत्री ने RSS के एक कार्यक्रम में भाषण देते हुए कहा, “कहां प्रतिबंध हैं? यह केवल आपके दिमाग में है। कोई प्रतिबंध नहीं हैं। केवल प्रतिबंधों के बारे में गलत सूचना फैलाई जा रही है।”

उन्होंने कहा, “लेकिन लोग कुछ दिनों के लिए मोबाइल कनेक्शन की कमी के बारे में एक संकेत बनाने और रोने की कोशिश कर रहे हैं। फोन कनेक्शन की कमी मानव अधिकारों का उल्लंघन नहीं है।”

बता दें कि 5 अगस्त 2019 को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में जम्मू कश्मीर से धारा 370 और अनुच्छेद 35ए को खत्म किए जाने का आदेश दिया था। धारा 370 हटाए जाने से पहले केंद्र सरकार ने घाटी में हजारों की संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया था। ऐलान से एक दिन पहले जम्मू-कश्मीर के कई इलाकों में धारा 144 लगाते हुए फोन और इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई थीं। इसके अलावा महबूबा मुफ़्ती, उमर अब्दुल्ला और फारूक अब्दुल्ला जैसे बड़े नेताओं को नजरबंद कर दिया गया था।

लोकप्रिय
next