त्योहारी सीजन में आगे और रुलाएगा प्याज, 120 रुपये किलो तक पहुंचेगी कीमत !

त्योहारी मौसम में प्याज की कीमतें आम लोगों का आंसू निकाल रहा है। फिलहाल प्याज 50 से 70 रुपए प्रति किलो की दर से बिक रहा है। लेकिन आने वाले दिनों में इसकी कीमतें 120 रुपए प्रति किलो तक पहुंच सकती है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

रवि प्रकाश

त्योहारी मौसम में प्याज की कीमतें आम लोगों का आंसू निकाल रहा है। फिलहाल प्याज 50 से 70 रुपए प्रति किलो की दर से बिक रहा है। लेकिन आने वाले दिनों में इसकी कीमतें 120 रुपए प्रति किलो तक पहुंच सकती है। कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र में भारी बारिश की वजह से प्याज की फसलें बर्बाद हो गई हैं। इसके चलते बाजार में जल्द ही प्याज के दामों में बढ़ोतरी होने का अनुमान है। पुणे में एक कारोबारी ने कहा कि पिछले हफ्ते तक वहां प्याज की कीमत 70 रुपए किलो तक थी, लेकिन आज (गुरुवार को) इसकी कीमत 120 रुपए किलो तक पहुंच गई है।

केंद्र सरकार की हालिया रिपोर्ट में भी प्याज की कीमतों में तेजी का अनुमान लगाया गया है। सरकार के एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 10 दिनों में ही प्याज की कीमतों में 12 रुपए तक की तेजी देखी गई है। इसी के साथ देशभर में प्याज की कीमतें 52 रुपए के ऊपर पहुंच गई हैं, जो कि पिछले साल 46.33 रुपए प्रति किलो की कीमत से 12 फीसदी ज्यादा है। इसी सिलसिले में अब सरकार ने प्याज के आयात से जुड़े नियमों में छूट देने का ऐलान किया है, ताकि त्योहार के सीजन में उपभोक्ताओं को महंगाई और फसल की कमी से न जूझना पड़े।


बता दें कि केंद्र सरकार ने 14 सितंबर को प्याज के निर्यात पर बैन लगा दिया था। तब कहा गया था कि यह कदम खरीफ सीजन के प्याज बाजार में आने से पहले घरेलू उपभोक्ताओं के लिए आपूर्ति को पूरा रखने के लिए उठाया गया है।

मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, प्याज आयातकों से अंडरटेकिंग ली जाएगी कि वे प्याज को सिर्फ खपत के लिए ही इस्तेमाल किया जाएगा, न कि इसे अलग जगहों पर भेज कर बेचने के लिए।

मंत्रालय ने कहा है कि प्याज के दामों को उच्च से मध्यम दरों तक लाया गया है, लेकिन बीते कुछ समय में प्याज की पैदावार वाले महाराष्ट्र, कर्नाटक और मध्यप्रदेश के शहरों में भारी बारिश से खरीफ की फसल को नुकसान पहुंचा। इसी के चलते प्याज के दामों में भी भारी बढ़ोतरी हुई है। सरकार ने कहा कि रबी सीजन के प्याजों का बफर स्टॉक रखा है और इसे जल्द लाया जाएगा।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 22 Oct 2020, 1:04 PM