केजरीवाल ने दिल्ली के बॉर्डर तो खोले, लेकिन प्राइवेट-सरकारी अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली वालों का ही होगा इलाज

दिल्ली में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इसी बीच दिल्ली सरकार ने एक बड़ा फैसला किया है। अब दिल्ली में दिल्ली सरकार और प्राइवेट अस्पतालों में केवल दिल्ली के निवासियों का ही इलाज होगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इसी बीच दिल्ली सरकार ने एक बड़ा फैसला किया है। अब दिल्ली में दिल्ली सरकार और प्राइवेट अस्पतालों में केवल दिल्ली के निवासियों का ही इलाज होगा। हालांकि, केंद्र सरकार के अस्पतालों में सभी का इलाज होगा। कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर दिल्ली कैबिनेट ने यह फैसला लिया है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज (रविवार) प्रेस कांफ्रेंस कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इसी के साथ इसी के साथ दिल्ली से बाहर के सभी लोगों के लिए बॉर्डर खोल दिए जाएंगे। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में बढ़ते मामलों के चलते फैसले लिया गया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के अस्पतालों में देश भर के लोगों के इलाज हो सकेंगे। दिल्ली के सीएम ने कहा कि दिल्ली में जून के आखिरी तक 15 हजार बेड की जरूरत होगी, जबकि हमारे पास सिर्फ 10 हजार बेड हैं। ऐसे में अस्पतालों को सबके लिए खोला जाना संभव नहीं होगा।


बता दें कि दिल्ली में कोरोना के नए मामलों के रोज नए रिकॉर्ड बन रहे हैं। यहां संक्रमितों की संख्या 27 हजार के पार पहुंच गया है। शनिवार को यहां 1320 नए मामले सामने आए, इसके साथ ही संक्रमितों की संख्या बढ़कर 27654 हो गई जबकि पिछले 24 घंटों में 349 मरीज़ ठीक हुए हैं। ठीक होने वालों का आंकड़ा 10,664 हो गया है। पिछले चौबीस घंटों में दिल्ली में कोई मौत नहीं हुई लेकिन 25 मई से 5 जून के बीच 53 मौतों की लेट रिपोर्टिंग हुई जिसके बाद अब कुल मौत का आंकड़ा 708 से बढ़कर 761 हो गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia