…तो नोटबंदी अब तक का सबसे बड़ा घोटाला है? यह वीडियो देखकर तो ऐसा ही लगता है

विपक्षी दलों के नेता ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नोटबंदी को अभी तक का सबसे बड़ा घोटाला बताया है। एक वीडियो भी जारी किया है जिसमें दावा किया जा रहा है कि 31 दिसंबर 2016 के बाद भी बीजेपी के कई कार्यकर्ताओं की मदद से नोट बदले जा रहे थे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 की रात 8 बजे नोटबैन किया था। तब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि उनकी सरकार देश से भ्रष्टाचार और कालेधन को जड़ से खत्म करने के लिए 500 और 1000 रुपये की करेंसी को बंद कर रही है। वहीं विपक्ष दल नोटबंदी को सबसे बड़ा घोटाला बताते रहे हैं। एक बार फिर विपक्ष ने मोदी सरकार को नोटबंदी को लेकर घेरा है। आज (मंगलवार) कई विपक्षी दलों के नेता ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नोटबंदी को अभी तक का सबसे बड़ा घोटाला बताया। इतना ही नहीं इन्होंने एक वीडियो भी जारी किया है। इस वीडियो में दावा किया जा रहा है कि 31 दिसंबर 2016 के बाद भी बीजेपी के कई कार्यकर्ताओं की मदद से नोट बदले जा रहे थे।

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस के कपिल सिब्बल, रणदीप सुरजेवाला, अहमद पटेल, गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल रहे। तो वहीं आरजेडी के मनोज झा और वरिष्ठ नेता शरद यादव भी उपस्थित रहे। प्रेस कॉन्फ्रेस में एक वीडियो दिखाया गया, जिसमें दावा किया जा रहा है कि पत्रकारों ने मिलकर नोटबंदी पर एक विशेष जांच की है। वीडियो में दिखाया गया कि 5 करोड़ के 500 के नोट आए और 3 करोड़ के 2000 के नोट दे दिए गए, ये सभी 31 दिसंबर 2016 के बाद हुआ है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने नोटबंदी को लकर पीएम मोदी पर निशाना साधा। कपिल सिब्बल ने कहा कि कुछ चौकीदारों ने देश के साथ धोखा किया है। नोटबंदी कर आम आदमी की जेब से पैसा छीना गया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के कारण देश की जीडीपी पीछे चली गई। इतना ही नहीं किसनों को भी भारी नुकसान उठाना पड़ा। नोटबंदी की वजह से छोटे कारोबारियों का रोजगार चौपट हो गया।

इन नेताओं ने इस वीडियो की पुष्टि नहीं की है। कपिल सिब्बल ने कहा कि वह इस वीडियो की पुष्टि नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि ये वीडियो उनका नहीं है, उन्हें यह वीडियो एक वेबसाइट से मिला है। उन्होंने कहा कि इस वीडियो में चौंकाने वाली बाते हैं जिसकी जांच होनी चाहिए।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;