मानसून सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक, विपक्षी दलों के नेताओं के साथ हुई बातचीत, पीएम बोले- सार्थक और...

संसद का मानसून सत्र कल से शुरू हो रहा है। इससे पहले आज केंद्र सरकार की तरफ से सर्वदलीय बैठक बुलाई गई। इस बैठक में मानसून सत्र को सुचारु रुप से चलाने को लेकर चर्चा की गई।

फोटो: ANI
फोटो: ANI
user

नवजीवन डेस्क

संसद का मानसून सत्र कल से शुरू हो रहा है। इससे पहले आज केंद्र सरकार की तरफ से सर्वदलीय बैठक बुलाई गई। इस बैठक में मानसून सत्र को सुचारु रुप से चलाने को लेकर चर्चा की गई। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी दलों से सदन चलाने में सहयोग मांगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने सर्वदलीय बैठक में कहा, सार्थक और शांतिपूर्ण ढंग से सदन में चर्चा होनी चाहिए। सरकार हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है। सदन को सुचारु रूप से चलाने के लिए सभी दलों का सहयोग चाहिए। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जरूरी विषयों पर जनप्रतिनिधियों को सरकार को सुझाव देना चाहिए। इससे सार्थक डिबेट होती है। बता दें कि 19 जुलाई से शुरू होकर मानसून सत्र 13 अगस्त तक चलेगा।


इस बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह और पीयूष गोयल भी मौजूद रहे। इसके अलावा लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन और डीएमके तिरुचि शिवा संसद पहुंचे। बता दें कि संसद सत्र से पहले हमेशा ही सर्वदलीय बैठक बुलाई जाती है।

मॉनसून सत्र तूफानी होने की संभावना है, जिसमें विपक्ष कई मुद्दों पर सरकार को घेरने की रणनीति के साथ तैयार है, जिसमें पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतें और कोविड की दूसरी लहर के दौरान बुनियादी ढांचे की कमी शामिल है।

विपक्ष इस आधार पर सहकारिता मंत्रालय के गठन पर आपत्ति जता सकता है कि सहकारिता राज्य का विषय है और यह कदम राज्यों के अधिकारों का उल्लंघन है। कांग्रेस और एनसीपी ने इस मुद्दे को उठाया है और इस मामले को सदन में उठाए जाने की संभावना है।



विपक्ष ने कोविड की स्थिति और तीसरी लहर के खतरे, किसानों के विरोध, सहकारी संघवाद के लिए कथित खतरे, अफगानिस्तान और चीन के साथ संबंधों सहित कई मुद्दों पर चर्चा की मांग की है। राज्यसभा और लोकसभा दोनों सुबह 11 बजे से शाम 6 बजे तक काम करेंगे। इस सत्र के लिए 19 बैठकें निर्धारित हैं। सत्र का समापन 13 अगस्त को होगा।

कोरोनोवायरस महामारी अभी भी जारी है, सत्र संसद के दोनों सदनों में आयोजित किया जाएगा, जिसमें सभी आवश्यक प्रोटोकॉल और सांसदों को सामाजिक दूरी के आधार पर समायोजित करने की व्यवस्था की जाएगी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 18 Jul 2021, 4:22 PM