पीएम मोदी कपड़ों से करते हैं घुसपैठियों की पहचान, कैलाश विजयवर्गीय ने निकाला ‘नया तरीका’

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, “मेरे यहां काम कर रहे मजदूर जब खाना खाने बैठे तो मुझे उनका तरीका कुछ अजीब लगा। वे सभी पोहा खा रहे थे। मैंने उनके सुपरवाइजर से पूछा कि ये लोग बंगलादेशी हैं क्या? इसके बाद वे मजदूर काम पर ही नहीं आए।”

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देशव्यापी प्रदर्शन जारी है। पिछले दिनों पीएम मोदी ने कहा था कि जो लोग देश में आग लगाते हैं, उनके कपड़ों से ही पता चल जाता है कि वे कौन लोग हैं। अब भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने एक विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा, “मेरे घर में काम कर रहे मजदूरों के पोहा खाने के तरीके से मैं समझ गया कि वह बांग्लादेशी हैं।”

इंदौर में एक सभा को संबोधित करते हुए विजयवर्गीय ने कहा, “मेरे घर में हाल ही में निर्माण कार्य चल रहा था। इस दौरान मेरे यहां काम कर रहे मजदूर जब खाना खाने बैठे तो मुझे उनके खाना खाने का तरीका कुछ अजीब लगा। वे सभी पोहा खा रहे थे। मैंने उनके सुपरवाइजर से पूछा कि ये लोग बंगलादेशी हैं क्या? इसके बाद वे मजदूर काम पर ही नहीं आए।”

आंतरिक सुरक्षा का हवाला देते हुए कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि मैंने इस घटना का जिक्र इसी लिए किया क्योंकि हमारे बीच बहुत से घुसपैठिए मौजूद हैं और मैं आपको आगाह करना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि यह देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा है। उन्होंने कहा कि घुसपैठिए देश का माहौल बिगाड़ रहे हैं।

बता दें कि असम में NRC के खिलाफ हुए हिंसात्मक प्रदर्शन के दौरान पीएम मोदी झारखंड में एक चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान मंच से उन्होंने कहा था कि देश में आग कौन लोग लगा रहे हैं, यह उनके कपड़ों से पता चल जाता है। पीएम मोदी ने कहा था, “ये कांग्रेस और उसके साथी हो-हल्ला मचा रहे हैं, तूफान खड़ा कर रहे हैं. उनकी बात चलती नहीं है तो आगजनी फैला रहे हैं. ये जो आग लगा रहे हैं, टीवी पर जो उनके दृश्य आ रहे हैं, ये आग लगाने वाले कौन हैं, उनके कपड़ों से ही पता चल जाता है।”

लोकप्रिय
next