दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति को पीएम ने भेजा ‘मोदी जैकेट’, लोगों ने बताया, उसे कहते हैं ‘नेहरू जैकेट’

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति को पीएम ने भेजा ‘मोदी जैकेट’

आज एक तरफ सरदार पटेल पर मौजूदा सरकार अपना हक जता रही थी, तो दूसरी तरफ दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ‘मोदी जैकेट’ भेजने के लिए धन्यवाद दे रहे थे जो असल में ‘नेहरू जैकेट’ के नाम से जाना जाता है।

ऐसा लगता है कि देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और कांग्रेस की विरासत को अपना बताने की कोशिश में पीएम मोदी और बीजेपी ने कोई कसर नहीं छोड़ रखी है। आज एक तरफ स्वतंत्रता आंदोलन और राष्ट्र निर्माण में महान भूमिका निभाने वाले आरएसएस विरोधी कांग्रेस नेता सरदार पटेल पर मौजूदा सरकार अपना हक जता रही थी, तो दूसरी तरफ दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ‘मोदी जैकेट’ भेजने के लिए धन्यवाद दे रहे थे जो असल में ‘नेहरू जैकेट’ के नाम से जाना जाता है।

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन ने ट्वीटर पर लिखा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुझे कुछ कपड़े भेजे हैं। ये सभी पारंपरिक भारतीय वस्त्र के आधुनिक रूप हैं, जो 'मोदी जैकेट' के नाम से मशहूर हैं। इन्हें आसानी से कोरिया में भी पहना जा सकता है।”

उन्होंने आगे कहा, “मेरी भारत यात्रा के दौरान मैंने प्रधानमंत्री मोदी से कहा था कि वे ऐसे जैकेट में बहुत अच्छे दिखते हैं, और उन्होंने मुझे वैसे जैकेट भेज दिए, जो मेरी ही नाप के सिले हुए हैं। मैं उनको इसके लिए धन्यवाद देना चाहता हूं।”

उनके ऐसा ट्वीट करने ही सैकड़ों लोगों ने ट्वीटर पर उन्हें इस ‘जैकेट की सच्चाई’ से अवगत करा दिया। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, “पीएम ने जैकेट भेजकर बहुत अच्छा किया, लेकि क्या वे बिना उसका नाम बदले नहीं भेज सकते थे? मैंने अपने पूरे जीवन में उस जैकेट को नेहरू जैकेट के रूप में जाना है और आज मुझे पता चल रहा है कि उन्हें ‘मोदी जैकेट’ कहा जा रहा है। साफ है कि 2014 के पहले भारत में कुछ भी नहीं था।”

प्रियंका नाम की महिला ने मून जे-इन से ट्वीटर पर पूछा, “क्या आपसे मोदी ने कहा है कि इसे मोदी जैकेट कहा जाता है? क्योंकि ऐसा नहीं है। इसलिए ऐसा कहकर आप खुद को शर्मिंदा मत कीजिए।”

एक अन्य ट्वीट में कहा गया, “आप भी मोदीफाइड हो गए। बधाई।“

गीता मोहन ने लिखा, “खूबसूरत चीज। हालांकि जब मैंने ऑनलाइन मोदी जैकेट ढूंढ़ा, तो मुझे सिर्फ नेहरू जैकेट मिला।”

इनके अलावा भी ऐसे कई दिलचस्प ट्वीट लोगों ने किए। हालांकि कुछ मोदी समर्थक ‘मोदी जैकेट’ को लेकर काफी उत्साही भी नजर आए। लेकिन सच्चाई यह है कि अभी भी ऐसी कई पीढ़ियां बची हैं जो नेहरू जैकेट को पहचानती हैं और उसे नेहरू जैकेट के नाम से ही जानती हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

सबसे लोकप्रिय

अखबार सब्सक्राइब करें