मुंबई जैसे बड़े शहरों में आसमान पर सब्जियों के दाम, ऑनलाइन में सस्‍ती, जानें क्यों?

मुंबई और दूसरे बड़े शहरों में रोजमर्रा की सब्जियों के दाम खुदरा बाजार में आसमान छू रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में टमाटर में सबसे जबरदस्‍त तेजी देखी गई है और अगस्‍त तक यही हाल रहने की आशंका है।

बड़े शहरों में आसमान छू रहे हैं रोजमर्रा की सब्जियों के दाम।
बड़े शहरों में आसमान छू रहे हैं रोजमर्रा की सब्जियों के दाम।
user

काईद नजमी, IANS

मुंबई और दूसरे बड़े शहरों में रोजमर्रा की सब्जियों के दाम खुदरा बाजार में आसमान छू रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में टमाटर में सबसे जबरदस्‍त तेजी देखी गई है और अगस्‍त तक यही हाल रहने की आशंका है। इसके विपरीत, समान दैनिक उपयोग की लोकप्रिय सब्जियों की कीमतें ई-बाज़ारों या अधिकांश प्रमुख ऑनलाइन पोर्टल जैसे जियो फ्रेश, रिलायंस स्मार्ट, अमेज़ॅन, बिगबास्केट, नेचर्स बास्केट पर 20-40 प्रतिशत कम हैं।

इनमें से कई साइटों को देखने से पता चला कि न केवल बाजार की तुलना में कीमतें कम हैं, यहां ताजी सब्जियों की काफी मांग है और इसलिए कुछ कंपनियां 24-48 घंटों के बाद ही डिलीवरी का वादा कर रही हैं। उदाहरण के लिए, ऑनलाइन पोर्टल पर टमाटर की कीमतें 70-90 रुपये के बीच हैं, जबकि खुले बाजारों में इसकी कीमत 100-130 रुपये है। साथ ही ऑनलाइन और ऑफलाइन अधिकांश अन्य सब्जियों की दरों में भी भारी अंतर है।

शहर के अन्य लोकप्रिय लेकिन छोटे ऑनलाइन खुदरा विक्रेताओं या डिपार्टमेंटल स्टोरों ने या तो महंगी सब्जियों को अपनी सूची से हटा दिया है या लगभग समान दरों वाली सब्जियां रखी हैं। इससे गली-गली घूमकर सब्जियां बेचने वालों को कड़ी चुनौती मिल रही है।

विशेषज्ञों और बाजार के जानकारों का दावा है कि मई के मध्य की तुलना में कीमतों में हालिया भारी बढ़ोतरी कई कारणों से हुई है। इनमें से प्रमुख हैं भारत के अधिकांश हिस्सों में मानसून की देरी से शुरुआत, आपूर्ति में अप्रत्याशित कमी, फसल पैटर्न में बदलाव और ईंधन की बढ़ती कीमतें।


बाजार विशेषज्ञ और वाशी एपीएमसी के निदेशक, अशोक वालुंज ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से बाजार को पुराना स्टॉक मिल रहा है। बारिश में देरी के कारण असामान्य कमी हो गई है, जिससे कीमतों में बढ़ोतरी हुई है। साथ ही, बड़ी मात्रा में प्याज और आलू खराब हो गए और स्टॉक के लिए कोई खरीदार नहीं है जो अब एपीएमसी में 10-12 रुपये प्रति किलोग्राम और खुदरा बाजारों में लगभग 20-25 रुपये प्रति किलोग्राम पर जा रहा है, लेकिन इसमें तेजी आएगी। उन्होंने आगाह किया कि अगस्त तक आलू 35-45 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच सकता है।

वालुंज ने आईएएनएस को बताया, "मानसून की शुरुआत के साथ, कुछ राहत है और हमें उम्मीद है कि ताजा फसलें अगले 5-6 सप्ताह (अगस्त की शुरुआत) में बाजार में पहुंच जाएंगी, इसलिए उपभोक्ताओं को तब तक महंगाई बर्दाश्‍त करनी होगी।"

शिव सेना (उद्धव गुट) के किसान चेहरे किशोर तिवारी ने आम उपयोग की वस्तुओं के लिए इतनी ऊंची दरों पर आश्चर्य जताया। उन्‍होंने कहा, "कहां है तथाकथित कल्याणकारी राज्य जिसका दावा बीजेपी सरकार पिछले लगभग 10 वर्षों से कर रही है।"

तिवारी ने कहा, “यदि आप आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में अचानक वृद्धि के ऐसे पिछले उदाहरणों का अध्ययन करते हैं, तो पता चलता है कि आम लोगों, किसानों, खुदरा विक्रेताओं सभी को भारी नुकसान हुआ है, लेकिन राजनीतिक बिचौलियों और उनकी पार्टियों को इससे फायदा हो रहा है, जो संकेत देता है कि चुनावों के लिए धन जुटाया जा रहा है।''


मुंबई की एक गृहिणी मिनाक्षी गवली ने बताया कि पिछले कुछ सप्‍ताह से परिवार के विरोध के बावजूद वह रोजाना सब्जियों के स्थान पर दाल बना रही हैं। गवली ने कहा, “सप्ताह में औसतन 14 सब्जियों के व्‍यंजनों में से मैंने आधे को विभिन्न प्रकार की दालों से बदल दिया है, जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा है और मेरे परिवार के बजट के लिए भी अच्छा है। मेरे कई दोस्त भी ऐसा ही कर रही हैं ताकि हम अपने संसाधनों को थोड़ा बढ़ा सकें।''

कांदिवली पूर्व की एक लोकप्रिय फुटपाथ विक्रेता डिंपी गुप्ता ने कहा कि ज्यादातर ग्राहक सब्जियों की कीमतें सुनकर लंबे चेहरे बनाते हैं और कुछ मांसाहारी विकल्प चुन रहे हैं। गुप्‍ता ने कहा, “मौजूदा बढ़ोतरी ने होटल, रेस्त्रां, छोटे भोजनालयों या पाव-भाजी और सैंडविच, वड़ा-पाव स्टालों जैसे व्यक्तिगत स्ट्रीट-फूड विक्रेताओं जैसे बड़े खरीदारों की खपत को भी प्रभावित किया है। वे महंगी सब्जियां - खासकर टमाटर, प्याज, आलू, फूलगोभी, जमे हुए मटर, शिमला मिर्च, आदि नहीं खरीद सकते हैं।”

ऑनलाइन और ऑफलाइन कीमतों में अंतर पर, वालुंज ने चुटकी लेते हुए कहा कि यह 'क्रॉस-सब्सिडी' की एक मार्केटिंग रणनीति है, जिसके तहत मॉल या ई-मॉल आवश्यक वस्तुओं की कीमतें कम रखते हैं, लेकिन ग्राहकों को बेवकूफ बनाने और मुनाफा कमाने के लिए अन्य वस्तुओं की दरें बढ़ा देते हैं।

टमाटर और मुख्य सब्जियों के अलावा, खाना पकाने की अन्य वस्तुओं की दरें भी बढ़ गई हैं - हरी मिर्च 180-220 रुपये प्रति किलोग्राम, अदरक 260-300 रुपये, धनिया पत्‍ती के गुच्‍छे 60-120 रुपये, फ्रेंच बीन्स 190-220 रुपये प्रति किलोग्राम पर हैं। टमाटर मई में 30 रुपये प्रति किलोग्राम था जो अब लगभग चार गुना है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;