CM योगी पर हमलावर हुईं प्रियंका, बोलीं- स्मार्ट मीटर के नाम पर बंद हो शोषण, नुकसान की भी हो भरपाई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सीएम योगी आदित्यानाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि यूपी सरकार स्मार्ट मीटर के नाम पर शोषण बंद करे और जांच कराकर नुकसान की भरपाई करे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में स्मार्ट बिजली मीटर को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी एक बार फिर सीएम योगी आदित्यनाथ पर हमलावर हुईं हैं, साथ ही योगी सरकार पर सवाल भी उठाए हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने योगी सरकार को घेरते हुए ट्वीट कर लिखा- अगर बिजली मीटर स्मार्ट हैं तो जन्माष्टमी के दिन स्मार्ट मीटरों में गलत कमांड ने लाखों घरों को अंधेरे में क्यों रखा? प्रियंका गांधी ने ये भी आरोप लगाया कि कि यूपी में स्मार्ट मीटर की वजह से कई लोगों के बिल चार गुना आए हैं।

इसे भी पढ़ें- चीन से सीमा विवाद को लेकर राहुल गांधी का पीएम पर हमला, कहा- मोदी के सिवाय हर किसी को सेना पर विश्वास

प्रियंका गांधी ने योगी सरकार को इस तरह का शोषण बंद करने को कहा। प्रियंका गांधी ने ट्वीट में आगे लिखा- यूपी सरकार स्मार्ट मीटर के नाम पर शोषण बंद करे और जांच कराकर नुकसान की भरपाई करे। गौरतलब है कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी राज्य की जनता की आवाज बनकर लगातार योगी सरकार को अलग अलग मुद्दों में घेरती रही है। इससे पहले भी प्रियंका गांधी ने यूपी में बिजली की दरों में बढ़ोतरी को लेकर कहा था कि यूपी में बिजली की दरें कंपनियों के फायदे के लिए बढ़ाई गई हैं। यूपी राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद की तरफ से घरेलू फिक्स्ड चार्ज और कॉमर्शियल न्यूनतम चार्ज खत्म करने और किसानों के लिए बिजली दरों में कमी किए जाने की मांग एकदम जायज है। सरकार को इसपर विचार करना चाहिए।

गौरतलब है उत्तर प्रदेश में बिजली की दरों को कम करने की मांग उठने लगी है। हालही में आर्थिक संकट से जूझ रहे उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद ने बिजली दरों को लेकर जनता के एक प्रस्ताव को विद्युत नियामक आयोग को सौंपा था। उपभोक्ता परिषद की ओर से भेजे गए प्रस्ताव में कहा गया था कि कोरोना महामारी के मद्देनजर कई राज्यों में बिजली की दरों में कमी की गई है, ऐसे में UP में भी दरों को कमी करने की आवश्यकता है। उपभोक्ता परिषद ने लोगों की राय लेकर बिजली दरों का एक प्रस्ताव भी आयोग को सौंपा है और विद्युत नियामक आयोग से इस पर जल्द फैसला लेने की बात कही था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय