विदेशों में बसे भारतीयों को राहुल का न्योता: आओ मिलकर दें भारत को अहिंसा और करुणा की ‘असली ताकत’

राहुल गांधी ने विदेशों में बसे भारतीयों को देश की असली ताकत लौटाने में मदद का न्योता दिया है। उन्होंने बहरीन में कहा कि आज देश में बेरोजगारी के गुस्से को नफरत में बदलने का काम किया जा रहा है।

फोटो : @INCIndia
फोटो : @INCIndia
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रोजगार और शिक्षा व्यवस्था के मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार पर जबरदस्त हमला बोला है। उन्होंने कहा कि भारत में आज रोजगार के अवसर 8 साल के निचले स्तर पर पहुंच गए हैं। देश में आज गरीबी हटाने, रोजगार देने और शिक्षा व्यवस्था सुधारने के बजाए नफरत फैलाने का काम हो रहा है। राहुल गांधी ने यह बातें बहरीन में भारतीय मूल के लोगों के बीच कहीं। कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी अपनी पहली विदेश यात्रा पर सोमवार सुबह बहरीन पहुंचे हैं।

विदेशों में बसे भारतीयों को राहुल  का न्योता: आओ मिलकर दें भारत को अहिंसा और करुणा की ‘असली ताकत’

राहुल गांधी ने कहा कि मौजूदा केंद्र सरकार युवाओं को रोजगार देने में नाकाम साबित हुई है। इस नाकामी के चलते देश में असंतोष और गुस्सा पैदा हो रहा है। यह गुस्सा अब सड़कों पर दिख रहा है और तेज़ी से बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि इस सबसे आंखें मूंद कर सरकार लोगों के बीच नफरत फैलाने का काम कर रही है। राहुल गांधी ने कहा कि रोजगार न मिलने के गुस्से को सरकार नफरत में बदलने का काम कर रही है। राहुल ने कहा कि आज देश में यह चर्चा हो रही है कि कौन क्या खा सकता है, क्या नहीं। सिर्फ विश्वासों के आधार पर लोगों की हत्या की जा रही है।

विदेशों में बसे भारतीयों को राहुल  का न्योता: आओ मिलकर दें भारत को अहिंसा और करुणा की ‘असली ताकत’

राहुल गांधी ने अमित शाह मामले की सुनवाई से जुड़े जस्टिस लोया की मौत की तरफ इशारा करते हुए कहा कि संवेदनशील मामलों से जुड़े जजों की रहस्यमय हालात में मौत हो रही है, और इस सब पर सरकार चुप है। उन्होने कहा हमें इससे लड़ना होगा और मिलकर लड़ना होगा।

राहुल गांधी ने अपने भाषण की शुरुआत में कहा कि मैं यहां आप लोगों को यह बताने आया हूं कि आप हमारे लिए क्या महत्व रखते हैं, यह बताने आया हूं कि आपके घर में यानी भारत बहुत सारी समस्याएं और खतरे सिर उठाए खड़े हैं, और यह बताने कि आप भी समाधान का हिस्सा हैं।

उन्होंने कहा कि वह उस कांग्रेस के प्रतिनिधि हैं जिसकी स्थापना ही लोगों को एकजुट करने के लिए हुई थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का नजरिया सभी लोगों और सभी धर्मों को एकसाथ लाना है और उनके बीच सेतु का काम करना है। उन्होंने कहा कि एनआरआई यानी विदेशों में बसे भारतीयों के साथ कांग्रेस का नजरिया बहुत गहरे से मिलता है, क्योंकि इन्हीं लोगों ने देश के आजादी दिलाने में अहम योगदान दिया। उन्होंने कहा कि लोग भूल जाते हैं कि महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू और बाबा साहेब अंबेडकर जैसे नेता एनआरआई ही थे। उन्होंने कहा कि वे राष्ट्र निर्माण में आप्रवासी भारतीयों का योगदान उसी तरह चाहते हैं जैसा कि आजादी की लड़ाई के दौरान था।

राहुल गांधी ने कहा कि, “यहाँ मौजूद आप सभी इस बात का सबूत हैं कि भारत अपने सामने आने वाली किसी भी चुनौती को पार कर सकता है। आपके बिना भारत के लिए कोई वैश्विक दृष्टिकोण नहीं बनाया जा सकता। हम सब मिलकर भारत की असली ताकत लौटा सकते हैं, हमें भारत को अहिंसा और करुणा का केंद्र बनाना है।”

उन्होंने कहा कि झूठ के प्रचार को सिर्फ सच्चाई से हराया जा सकता है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि, “आज बीजेपी सत्ता में है तो क्या हुआ। हमने आजादी के लिए संघर्ष किया, देश को आकार दिया। हमारे पास ताकत है कि हम 2019 में उन्हें हरा सकें।”

विदेशों में बसे भारतीयों को राहुल  का न्योता: आओ मिलकर दें भारत को अहिंसा और करुणा की ‘असली ताकत’

राहुल गांधी ने कहा, “कि यह ऐसी लड़ाई नहीं है जो आपके बिना जीती जा सकती है। यह हमारे प्रिय आदर्शों को लौटाने की, आपके खुलेपन, आपके कौशल, आपकी प्रतिभा, आपकी सहिष्णुता, आपकी देशभक्ति की लड़ाई है, जिसकी आज भारत में जरूरत है।”

भाषण के अंत में लोगों ने राहुल गांधी से सवाल भी पूछे। यह पूछे जाने पर कि सत्ता में आने पर उनकी प्राथमिकताएं क्या होंगी, उन्होंने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता रोजगार पैदा करने की होगी। इसके लिए हम छोटे और मझोले उद्योगों पर ध्यान देंगे, क्योंकि इससे ही रोजगार पैदा होते हैं। राहुल ने कहा कि भारत में विश्व स्तरीय शिक्षा पद्धति है, लेकिन चंद लोगों की ही इस तक पहुंच है। उन्होंने कहा कि वे इसे हर किसी को उपलब्ध कराएंगे। इसके अलावा राहुल ने कहा कि वे स्वास्थ्य सेवाएं देने वाले सबसे बड़े केंद्र के रूप में भारत को विकसित करेंगे।

राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस गुजरात में सड़कों पर बीजेपी से मुकाबला कर रही है। हाल के चुनावों में मामूली अंतर से बीजेपी जीती है। उन्होंने नोटबंदी और जीएसटी की तरफ इशारा करते हुए कहा कि डॉ मनमोहन सिंह ने नोटबंदी की आलोचना की थी, क्योंकि यह अनुभव की बात है। उन्होंने कहा कांग्रेस के पास अनुभव और युवा शक्ति दोनों है।

यह भी पढ़े : बहरीन के प्रिंस से मिले राहुल गांधी, कहा, भारत और बहरीन के हितों पर हुई बात

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 08 Jan 2018, 11:43 PM
;