राहुल गांधी समेत विपक्ष के कई नेता आज करेंगे श्रीनगर का दौरा, खबर मिलते ही राज्यपाल ने आने से किया मना

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी समेत विपक्षी दलों के कई नेता शनिवार को श्रीनगर जाएंगे। वे सभी वहां हालात का जायजा लेंगे। इस दौरान सभी विपक्षी नेता स्थानीय लोगों से बात भी करेंगे ताकि उनकी भावनाएं पूरे देश को मालूम हो सके।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

राहुल गांधी विपक्षी दलों के नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ शनिवार को श्रीनगर का दौरा करेंगे। प्रतिनिधिमंडल में राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, केसी वेणुगोपाल, सीपीआई महासचिव डी राजा, सीपीएम के महासचिव सीताराम येचुरी, टीएमसी के दिनेश त्रिवेदी, डीएमके के टी शिवा, एनसीपी के माजिद मेमन, जेडीएस के कुपेंद्र रेड्डी और आरजेडी के मनोज झा समेत कई नेता शामिल रहेंगे। जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल पास होने और अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद कश्मीर जाने वाला विपक्षी दलों का यह पहला प्रतिनिधिमंडल होगा।

श्रीनगर के अपने दौरे पर राहुल गांधी समेत सभी विपक्षी नेता वहां के हालात का जायजा लेंगे और वहां के नेताओं के अलावा स्थानीय लोगों से मुलाकात करेंगे। हालांकि विपक्षी नेताओं के इस दौरे की खबर आते ही जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने एक बयान जारी कर इन नेताओं को नहीं आने के लिए कहा है। प्रशासन ने कहा कि विपक्ष के नेताओं के आने से इलाके का माहौल खराब हो सकता है। इतना ही नहीं प्रशासन ने ये भी पहले से ही तय कर लिया कि अपने दौरे पर विपक्ष के नेता निश्चित तौर पर उन प्रतिबंधों का उल्लंघन करेंगे जो वहां के क्षेत्रों में अभी भी लागू हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद दो बार कश्मीर जाने की कोशिश कर चुके हैं। लेकिन दोनों ही बार वहां के प्रशासन ने उन्हें जबरन एयरपोर्ट से वापस लौटा दिया। उन्हें पहली बार श्रीनगर एयरपोर्ट से और दूसरी बार जम्मू एयरपोर्ट से वापस दिल्ली लौटा दिया गया था। आजाद के अलावा डी राजा और सीताराम येचुरी को भी श्रीनगर एयरपोर्ट से वापस लौटा दिया गया था।

बता दें कि पिछले लगभग से 20 दिन से घाटी में जारी प्रतिबंधों के कारण वहां के लोगों के हालात के बारे में शेष भारत को कोई जानकारी नहीं है। घाटी में फोन, मोबाइल, इंटरनेट पर प्रतिबंध के साथ ही कर्फ्यू जैसी धारा 144 लागू है। वहां के विपक्ष के लगभग सभी नेताओं को सुरक्षाबलों ने या तो गिरफ्तार कर लिया है या नजरबंद कर रखा है। इस कारण से श्रीनगर और घाटी के दूरदराज के इलाकों की कहीं कोई खबर नहीं है। ऐसे में विपक्ष सरकार से लगातार वहां लगे प्रतिबंधों को हटाने और विपक्ष के नेताओं को वहां जाने देने की मांग कर रहा है।

हालांकि इससे पहले भी राहुल गांधी ने विपक्षी नेताओं के प्रतिनिधिमंडल को कश्मीर जाने की इजाजत देने की मांग वहां के राज्यपाल से की थी। उन्होंने कहा था कि इस दौरान विपक्ष के नेताओं को वहां के लोगों से मिलने का मौका दिया जाए। लेकिन इजाजत देने और स्वादगत करने की बजाय राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा था कि वह कश्मीर के हालात को लेकर झूठ बोल रहे हैं।

Published: 23 Aug 2019, 10:34 PM
लोकप्रिय