मॉब लिंचिंग के दोषियों का सम्मान करने पर जयंत सिन्हा के खिलाफ ऑनलाइन पिटिशन, राहुल गांधी ने की समर्थन की अपील

मॉब लिंचिंग के दोषियों को सम्मानित कर विवादों में आए केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा का हार्वर्ड युनिवर्सिटी के पूर्व छात्र का ओहदा निरस्त करने के लिए एक ऑनलाइन पिटिशन शुरू की गई है। राहुल गांधी ने भी लोगों से इस पिटिशन का समर्थन करने की अपील की है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

केंद्र की मोदी सरकार में मंत्री जयंत सिन्हा द्वारा झारखंड के हजारीबाग में मॉब लिचिंग के दोषियों को सम्मानित करने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। घटना के सामने आने के बाद चौतरफा आलोचना से घिरे जयंत सिन्हा के खिलाफ एक ऑनलाइन पिटिशन शुरू की गई है। अमेरिका के प्रतिष्ठित हार्वर्ड युनिववर्सिटी के एक पूर्व छात्र प्रतीक कंवल ने ऑनलाइन पिटीशन शुरू की है, जिसमें जयंत सिंहा का हारवर्ड के पूर्व छात्र का ओहदा निरस्त करने की अपील की गई है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी लोगों से इस पिटिशन का समर्थन करने की अपील की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “अगर एक सुशिक्षित सांसद और केंद्र के मंत्री जयंत सिन्हा का मॉब लिंचिंग के दोषियों को माला पहनाना और सम्मानित करना आपको तकलीफ से भर देता है तो इस लिंक पर क्लिक कर इस पिटीशन का समर्थन करें।”

गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा द्वारा मॉब लिंचिंग के आरोपियों को सम्मानित करने के खिलाफ सोमवार को देश के कई पूर्व नौकरशाहों ने केंद्र सरकार को पत्र लिखकर सिन्हा को मंत्रिपरिषद से हटाने की मांग की है। मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त जूलियो रिबेरो, देश के पूर्व सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्ला और अन्य 41 पूर्व नौकरशाहों ने केंद्र को लिखे पत्र में केंद्रीय मंत्री के इस कदम की कड़ी निंदा की है।

बता दें कि झारखंड के रामगढ़ जिले में 29 जून 2017 को हिंसक भीड़ ने अलीमुद्दीन अंसारी नाम के एक मांस कारोबारी की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। इस हत्‍याकांड में अदालत ने 11 लोगों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। हालांकि, बाद में सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष की ओर से वीडियो फुटेज को सबूत मानने पर सवाल उठाए जाने पर अदालत ने 8 लोगों को जमानत दे दी। जमानत के बाद जेल से छूटे इन आरोपियों से केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने न सिर्फ मुलाकात की बल्कि सार्वजनिक तौर पर फूल-माला पहनाकर इनका सम्मान भी किया।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 10 Jul 2018, 9:45 PM
;