हैदराबाद जेल में NSUI नेताओं से मिले राहुल, बोले- अन्याय के खिलाफ लड़ने वालों के साथ मैं हमेशा खड़ा रहूंगा

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को हैदराबाद की चंचलगुडा सेंट्रल जेल का दौरा किया और उस्मानिया विश्वविद्यालय में विरोध प्रदर्शन करने के आरोप में पिछले सप्ताह गिरफ्तार किए गए एनएसयूआई नेताओं से मुलाकात की।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को हैदराबाद की चंचलगुडा सेंट्रल जेल का दौरा किया और उस्मानिया विश्वविद्यालय में विरोध प्रदर्शन करने के आरोप में पिछले सप्ताह गिरफ्तार किए गए एनएसयूआई नेताओं से मुलाकात की।

अपने तेलंगाना दौरे के दूसरे दिन राहुल जेल गए और कांग्रेस पार्टी की छात्र इकाई नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआई) के 18 नेताओं से मुलाकात की।

राहुल ने जेल पहुंचने से पहले ट्वीट किया, "कांग्रेस पार्टी की आत्मा उसके समर्पित कार्यकर्ता हैं, जो अन्याय के खिलाफ निस्वार्थ लड़ाई लड़ रहे हैं। मैं हमेशा उनके साथ खड़ा रहूंगा। एनएसयूआई के 18 छात्र नेताओं से मिलने के लिए चंचलगुडा जेल जा रहा हूं, जिन्हें टीआरएस सरकार द्वारा शांतिपूर्वक विरोध करने के लिए अवैध रूप से गिरफ्तार किया गया है।"


राहुल कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) मल्लू भट्टी विक्रमार्क के साथ जेल पहुंचे। उन्होंने एनएसयूआई तेलंगाना के प्रदेश अध्यक्ष बालमूरी वेंकट और अन्य के साथ बातचीत की। उन्होंने उनसे छात्रों और युवाओं की समस्याओं के बारे में जानकारी ली। सांसद ने एनएसयूआई नेताओं के साथ तस्वीरें भी खिंचवाईं।

उन्हें 1 मई को उस्मानिया विश्वविद्यालय में राहुल गांधी के विश्वविद्यालय की यात्रा की अनुमति से इनकार करने के विरोध में विरोध प्रदर्शन के दौरान गिरफ्तार किया गया था।

प्रदर्शनकारियों ने ओयू प्रशासनिक भवन में धावा बोल दिया था और कुलपति के बंद कार्यालय में घुसने की कोशिश की थी। उन्होंने कथित तौर पर दरवाजे के शीशे तोड़ दिए और कुलपति और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। उन्होंने आरोप लगाया कि कुलपति मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के इशारे पर काम कर रहे हैं।

एनएसयूआई नेताओं पर गैरकानूनी रूप से इकट्ठा होने, मारपीट करने, हिंसा फैलाने, अतिक्रमण करने और लोक सेवकों को उनके कर्तव्यों का निर्वहन करने से रोकने के लिए मामला दर्ज किया गया है। एक महिला पुलिस कांस्टेबल की शिकायत पर गिरफ्तार एनएसयूआई नेताओं पर उनका शील भंग (किसी महिला के साथ जबरदस्ती या अनौपचारिक व्यवहार करना) करने का प्रयास करने का भी आरोप लगाया गया है।


वेंकट बालमूर और 17 अन्य को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया, जिन्होंने उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। कुछ एनएसयूआई नेताओं ने तेलंगाना उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था, जिसमें उस्मानिया विश्वविद्यालय को राहुल गांधी को परिसर का दौरा करने की अनुमति देने का निर्देश देने की मांग की गई थी। हालांकि कोर्ट ने ऐसा कोई आदेश देने से इनकार कर दिया।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia