राजस्थान में बीजेपी को करारा झटका, चुनाव से पहले ही मंत्री बनाए गए उम्मीदवार को कांग्रेस ने हराया

राजस्थान में करणपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव में बीजेपी को बड़ा झटका लगा है। इस सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार रुपिंदर सिंह कुन्नर ने बीजेपी सरकार में मंत्री सुरेंद्र पाल सिंह टीटी को 12570 वोटों से हरा दिया। टीटी को चुनाव से पहले ही मंत्री बनाया गया था।

(बाएं) विजयी कांग्रेस उम्मीदवार रुपिंदर सिंह कुन्नर और (दाएं) राजस्थान बीजेपी सरकार में मंत्री सुरेंद्र पाल सिंह टीटी
(बाएं) विजयी कांग्रेस उम्मीदवार रुपिंदर सिंह कुन्नर और (दाएं) राजस्थान बीजेपी सरकार में मंत्री सुरेंद्र पाल सिंह टीटी
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान में श्रीगंगानगर जिले की करणपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव में भजनलाल सरकार को बड़ा झटका लगा है। यहां से बीजेपी प्रत्याशी सुरेंद्र पाल सिंह टीटी 12570 वोटों से चुनाव हार चुके हैं। आपको बता दें कि बीजेपी इस उपचुनाव से पहले ही टीटी को भजनलाल कैबिनेट में मंत्री बना चुकी थी इसलिए इस चुनाव में बीजेपी का काफी कुछ दांव पर लगा हुआ था।

बीजेपी की हार पर कांग्रेस सांसद जयराम रमेश ने तंज कसते हुए कहा कि श्रीकरणपुर की जनता ने बीजेपी के घमंड को तोड़ दिया है। उन्होंने सोशल मीडिया एक्स पर लिखा, "उपचुनाव के बीच बीजेपी ने सत्ता के अहंकार में चुनाव लड रहे प्रत्याशी को मंत्री बनाकर आचार संहिता का मज़ाक बना दिया था। श्रीकरणपुर की जनता ने बीजेपी के घमंड को तोड़ दिया है। वहां से कांग्रेस प्रत्याशी श्री रुपिन्दर सिंह कुन्नर की जीत हुई है।"

रमेश ने आगे लिखा, "बीजेपी के अहंकारी नेताओं को यह समझना होगा कि वे भले ही किसी को 'मंत्री' बना दें लेकिन 'जनप्रतिनिधि' तो जनता ही बनाती है।"

इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कुन्नर को बधाई दी। उन्होंने कहा, "श्रीकरणपुर में कांग्रेस प्रत्याशी रुपिंदर सिंह कुन्नर को जीत की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। श्रीकरणपुर की जनता ने भारतीय जनता पार्टी के अहंकार को हरा दिया है। जनता ने आचार संहिता की धज्जियां उड़ाने वाली बीजेपी को सबक सिखाया है।"


पीसीसी अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा, "बीजेपी की नई 'पर्ची सरकार' कांग्रेस की योजनाओं के नाम बदलती रही, वहीं, जनता ने अपने मंत्री बदल दिए।"

चुनाव से पहले भी यह सीट बीजेपी उम्मीदवार सुरेंद्र पाल सिंह टीटी को भजनलाल सरकार में मंत्री बनाए जाने के कारण चर्चा में बनी हुई है। टीटी को भजनलाल सरकार में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनाया गया था और चार महत्वपूर्ण विभाग भी दिए गए थे।

आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर कांग्रेस नेताओं ने चुनाव आयोग से शिकायत की थी।करणपुर में 5 जनवरी को चुनाव था।

यह बताना जरूरी है कि कांग्रेस उम्मीदवार गुरुमीत सिंह कुन्नर का निधन हो गया और इसलिए चुनाव रद्द कर दिया गया। कांग्रेस ने उनकी जगह गुरमीत सिंह कुन्नर के बेटे को मैदान में उतारा।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;