रणदीप सुरजेवाला का PM से सवाल, पूछा-गुजरात की कंपनी को ही क्यों मिली कोरोना टेस्टिंग किट बनाने की इजाजत ?

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मोदी सरकार से कोरोना को लेकर कुछ सवाल किए हैं, सुरजेवाला ने कहा है कि पीएम को इन सवालों का जवाब अपने संबोधन में देने चाहिए।

 फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना वायरस को लेकर लगातार देश की जनता को आगाह किया जा रहा है, कांग्रेस भी मोदी सरकार से हर तरह की मदद के लिए साथ देने का वादा भी कर रही है। इसके अलावा इस महामारी को लेकर सरकार की ओर से लापरवाही को लेकर भी कांग्रेस सवाल करती रही है। इस बीच कांग्रेस प्रवक्त रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मोदी सरकार से कोरोना को लेकर कुछ सवाल किए हैं।

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर पीएम पर निशाना साधा है। सुरजेवाला ने लिखा है कि प्रिय पीएम, करोना वायरस की लड़ाई में सबसे ज़रूरी #COVID2019 का टेस्ट है। इसे कमजोर करना राष्ट्रविरोधी है। 20 मार्च को CDSCO/NIV ने 14 कंपनियों को करोना किट के टेस्ट लाइसेन्स दिए, पर 21 मार्च को सरकार ने केवल FDA/EC अप्रूव्ड किट की शर्त लगा दी। अब गुजरात की केवल कम्पनी रह गई।

इतना ही नहीं रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पीएम से कहा कि मेरे कुछ सवालों का जवाब वो अपने संबोधन में दें। रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि आदरणीय PM, आज राष्ट्र संबोधन में बताएँ कि 14 कंपनियों को करोना वायरस टेस्टिंग किट बनाने का टेस्ट लाइसेन्स देकर केवल 1 गुजरात की कम्पनी को इजाज़त क्यों?, टेस्ट की लागत ₹4,500 क्यों?,. FDA/EC मोहर अनिवार्य क्यों?..इसके अलावा पीएम ये भी बताए कि ये टेस्ट आयुष्मान भारत में शामिल क्यों नही?

इससे पहले भी कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर बड़ा आरोप लगाया था। सुरेजावाला ने ट्वीट के जरिये केंद्र सरकार को कोरोना की आड़ में कालाबाजार का आरोप लगाया था। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने अपने ट्वीट में लिखा, प्रधानमंत्री जी, यह एक माफ नहीं करने लायक अपराध और षडयंत्र है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा था कि वेंटिलेटर, सर्जिकल/फेस मास्क और मास्क/गाउन बनाने वाले सामान का भंडारण हो।

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि आप 19 मार्च तक 10 गुना कीमत पर इनके निर्यात करने की इजाजत देते रहे, जबकि एम्स में ये सभी सामान उपलब्ध नहीं हैं। कांग्रेस नेता ने इसके अलावा दो लेटर भी साझा किए जो इन आरोपों से संबंधित थे।

लोकप्रिय