बिहार विधान परिषद चुनाव में सभी राजनीतिक दलों की प्रतिष्ठा दांव पर, जानें कौन कितनी सीट पर लड़ा रहा चुनाव

स्थानीय निकाय कोटे से चुनी जाने वाली विधान परिषद की 24 सीटों पर होने वाले चुनाव की घोषणा के साथ ही सत्ता पक्ष और विपक्ष अपनी रणनीति को अंतिम रूप देने में जुटे हैं।

बिहार विधान सभा/ फोटो: Getty Images 
बिहार विधान सभा/ फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

स्थानीय निकाय कोटे से चुनी जाने वाली विधान परिषद की 24 सीटों पर होने वाले चुनाव की घोषणा के साथ ही सत्ता पक्ष और विपक्ष अपनी रणनीति को अंतिम रूप देने में जुटे हैं। इस चुनाव में जहां सभी राजनीतिक दलों की प्रतिष्ठा जुड़ी हुई है, इस कारण तय है कि इस चुनाव में सत्ता और विपक्ष के बीच जमकर जोर-आजमाइश होगी। इस चुनाव को लेकर सत्ता और विपक्षी दलों का गठबंधन बिखरा नजर आ रहा है।

इस चुनाव में विपक्षी दलों के महागठबंधन में बिखराव हो चुका है। राजद जहां अपने 23 प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है वहीं एक सीट भाकपा को दे दी है, जबकि कांग्रेस ने अकेले चुनाव लडने की घोषणा कर दी है। कांग्रेस भी अपने आठ प्रत्याशियों का ऐलान भी कर दिया है।


सत्ता पक्ष की ओर से अब तक तय है भाजपा और जदयू के उम्मीदवार मैदान में होंगे। सत्ता पक्ष में भाजपा और जदयू में 12 और 11 सीटों पर समझौता हुआ है, जबकि एक सीट राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी (रालोजपा) को दी गई है।

विकासशील इंसान पार्टी (वीआइपी) और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) को एक भी सीट नहीं दी गई। हालांकि विकासशील इंसान पार्टी ने अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है, लेकिन अब तक प्रत्याशियों के नाम नहीं तय किए हैं।

विधान परिषद की रिक्त हुई 24 सीटों के लिए चार अप्रैल को वोट पड़ने हैं और वोटों की गिनती सात अप्रैल को होगी। हाल ही में संपन्न हुए पंचायत चुनावों में चुनकर आए लगभग एक लाख 32 हजार पंचायत प्रतिनिधि वोट डालेंगे।

इस चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों की प्रतिष्ठा जुड़ी हुई है। स्थानीय निकाय के प्रतिनिधियों को अपने पक्ष में करने के लिए सभी दलों ने प्रयास शुरू कर दिए हैं।


सत्ता पक्ष जहां बिखरे विपक्ष को लेकर फायदा उठाने की पुरजोर कोशिश में है वहीं विपक्ष भी इस चुनाव में अपनी सीट बढ़ाने को लेकर तैयार है। खाली हुई 24 सीटों में भाजपा की 12, जदयू की छह, राजद की तीन, कांग्रेस और लोजपा की एक-एक व एक निर्दलीय की सीटें हैं, ऐसे में तय है कि सभी दलों को अपनी सीट बचाना चुनौती है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia