‘चमकी’ बुखार से बच्चों की मौत पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, नीतीश समेत केंद्र और यूपी सरकार से 7 दिन के अंदर मांगा जवाब

कोर्ट ने गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए कहा, ‘यह गंभीर चिंता का विषय है। ये ऐसे ही नहीं चल सकता। हमें जवाब चाहिए।’ कोर्ट ने जिन तीन मुद्दों पर जवाब मांगा है उनमें स्वास्थ्य सेवाओं की पयार्प्तता, पोषण और साफ सफाई शामिल है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

बिहार में चमकी बुखार से लगातार हो रही बच्चों की मौत पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्ती दिखाते हुए बिहार की नीतीश सरकार और केंद्र सरकार समेत उत्तर प्रदेश की योगी सरकार से जवाब मांगा है। सुप्रीम कोर्ट ने बच्चों की मौत पर तीनों सरकारों को नोटिस जारी करते हुए 7 दिन के अन्दर रिपोर्ट जमा करने का आदेश दिया है। इसके अलावा कोर्ट ने बिहार से जुड़े दो अन्य मामलों में भी जवाब मांगा है।

गौरतलब है कि एक्यूट इन्सेफलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) नामक बीमारी से बिहार में अब तक 169 बच्चों की मौत हो चुकी है। इस पर कोर्ट ने गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए कहा, 'यह गंभीर चिंता का विषय है। ये ऐसे ही नहीं चल सकता। हमें जवाब चाहिए।' कोर्ट ने जिन तीन मुद्दों पर जवाब मांगा है उनमें स्वास्थ्य सेवाओं की पयार्प्तता, पोषण और साफ सफाई शामिल है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में मुजफ्फरपुर मामले से जुड़ी दो याचिकाएं दाखिल की गई हैं। इन याचिकाओं में कोर्ट से मांग की गई है कि बिहार सरकार को मेडिकल सुविधा बढ़ाने के आदेश दिए जाएं। इसके साथ-साथ केंद्र सरकार को भी इस बारे में एक्शन लेने को कहा जाए।

लगातार बढ़ रहा है मौतों का आंकड़ा

बिहार मुजफ्फरपुर समेत कई जिलों में एक्यूट इन्सेफलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) से अब तक 169 बच्चों की मौत हो चुकी है। अकेले मुजफ्फरपुर में 132 बच्चों की मौत हुई है। इसके अलावा हाजीपुर में 11, समस्तीपुर में 6 और मोतिहारी में 7 बच्चों की मौत हुई है। पटना के पीएमसीएच में एक बच्चे की मौत हुई है तो शिवहर में 2 बच्चों की मौत हुई है। इसके अलावा भागलपुर में 5, बेगूसराय में एक, भोजपुर में एक, सीवान में अब तक दो और बेतिया में अब तक एक बच्चे की मौत हुई है।

Published: 24 Jun 2019, 12:17 PM
लोकप्रिय