राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा में शामिल नहीं होंगे शरद पवार, बाद में जाएंगे अयोध्या

समारोह के लिए निमंत्रण प्राप्त करने वाले 83 वर्षीय पवार ने इस मुद्दे पर राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय को एक संक्षिप्त पत्र लिखा है, जिसमें 'दर्शन' के लिए अधिक समय के साथ बाद की तारीख में जाने का वादा किया गया है।

शरद पवार 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा में शामिल नहीं होंगे
शरद पवार 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा में शामिल नहीं होंगे
user

नवजीवन डेस्क

अयोध्या में 22 जनवरी को होने वाले राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा में विपक्ष के कई नेताओं ने अपना रुख स्पष्ट कर दिया है। एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने भी कहा है कि वो इस समारोह में शामिल नहीं होंगे। उनसे पहले कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, अखिलेश यादव, ममता बनर्जी ने भी इस समारोह में शामिल होने से इनकार कर चुके हैं। उन्होंने कहा है कि वो इस समारोह के बाद रामलला के दर्शन करने अयोध्या जाएंगे।

समारोह के लिए निमंत्रण प्राप्त करने वाले 83 वर्षीय पवार ने इस मुद्दे पर राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय को एक संक्षिप्त पत्र लिखा है, जिसमें 'दर्शन' के लिए अधिक समय के साथ बाद की तारीख में जाने का वादा किया गया है।

पवार ने कहा, “भगवान राम न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में उनके लाखों समर्पित अनुयायियों द्वारा पूजनीय हैं। अयोध्या समारोह को लेकर राम भक्तों में काफी उत्साह है और वे बड़ी संख्या में वहां पहुंच रहे हैं। उनके माध्यम से मुझे ऐतिहासिक अवसर का आनंद भी मिलेगा।”


हालांकि, एनसीपी सुप्रीमो ने कहा कि 22 जनवरी के कार्यक्रम के बाद, राम लला का उचित और आराम से 'दर्शन' करना संभव होगा।

पवार ने कहा, “मेरी कुछ कार्यक्रमों के लिए अयोध्या आने की योजना है। उस समय मैं पूरी आस्था के साथ श्री रामलला के दर्शन के लिए पर्याप्त समय निकालूंगा। उस समय तक, राम मंदिर का निर्माण कार्य भी पूरा हो जाएगा।”

उन्होंने निमंत्रण के लिए राय के प्रति आभार जताया और अगले सोमवार (22 जनवरी) को अयोध्या में होने वाले भव्य समारोह के लिए शुभकामनाएं भी दीं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;