पुलवामा हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ जवान के परिवार को गोद लेंगी डीएम इनायत

इनायत ने कहा, ‘व्यक्तिगत रूप से, मैं दोनों शहीद के परिवारों में से किसी एक को गोद लेना चाहूंगी। बता दें कि गुरुवार को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले में हुए आत्मघाती हमले में 49 जवान शहीद हो गए थे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पुलवामा हमले में बिहार ने भी दो वीर सपूतों को खोया है। इस हमले में हेड कॉन्स्टेबल संजय कुमार सिन्हा और रतन कुमार ठाकुर भी शहीद हो गए थे। बिहार के शेखपुरा जिले की जिलाधिकारी इनायत खान इनके परिवार की मदद करेंगी। इनायत ने दोनों शहीद में से एक के परिवार को गोद लेने की इच्छा जताई है।

इसके अलावा उन्होंने दोनों परिवारों की मदद के लिए खाता खोलने के आदेश भी दिए हैं। इसके जरिए शहीदों के परिवार के लिए फंड इकट्ठा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 10 मार्च तक जितनी भी राशि इकट्ठा की जाएगी उसे बराबर-बराबर बांटकर दोनों शहीदों के परिजनों को सौंप दी जाएगी।

इनायत ने कहा, 'व्यक्तिगत रूप से, मैं दोनों शहीद के परिवारों में से किसी एक को गोद लेना चाहूंगी।’ बता दें कि गुरुवार को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले में हुए आत्मघाती हमले में 49 जवान शहीद हो गए थे। जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमलावर ने सीआरपीएफ के काफिले की एक बस को निशाना बनाया था।

इस घटना के बाद से खिलाड़ी, फिल्म स्टार से लेकर जनता भी शहीदों के परिजनों लिए फंड इकट्ठा करने में मदद कर रही है और अब प्रशासनिक अधिकारी भी इस नेक काम के लिए आगे आ रहे हैं। बता दें कि पुलवामा हमले में शहीद होने वाले हेड कॉन्स्टेबल संजय कुमार सिन्हा बिहार के पटना में रारगढ़ गांव के रहने वाले थे।जबकि रतन कुमार ठाकुर बिहार के भागलपुर के रतनपुर गांव के रहने वाले थे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;