सोनिया गांधी ने की ननकाना साहिब पर हमले की निंदा, कहा- कार्रवाई के लिए भारत सरकार पाक पर बनाए दबाव

सोनिया गांधी ने पाकिस्तान में ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर पत्थरबाजी की कड़ी निंदा करते हुए भारत सरकार से तत्काल कार्रवाई की अपील की है। उन्होंने भारत सरकार से श्रद्धालुओं और कर्मचारियों के साथ गुरुद्वारे की रक्षा के लिए पाक सरकार पर दबाव बनाने की मांग की है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पाकिस्तान में ननकाना साहिब पर स्थानीय लोगों की भीड़ द्वारा पत्थरबाजी की घटना की कड़ी निंदा की है। उन्होंने एक बयान जारी कर कहा कि इस मामले में दोषियों पर कार्रवाई के लिए केस दर्ज कराने से लेकर तमाम जरूरी कार्रवाई के लिए भारत सरकार को पाकिस्तान पर दबाव बनाना चाहिए। अपने बयान में इस अवांछित और अकारण हमले पर चिंता जताते हुए उन्होंने वहां मौजूद सिख श्रद्धालुओं और गुरुद्वारा के कर्मचारियों और पवित्र तीर्थ स्थल की सुरक्षा के लिए भारत सरकार से पाकिस्तान की सरकार पर दबाव बनाने की अपील की है।

इससे पहले कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने भी ननकाना साहिब पर हुए हमले की निंदा करते हुए कहा कि परस्पर सम्मान और प्रेम के जरिये ही किसी तरह की धार्मिक कट्टरता के जहर को खत्म किया जा सकता है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, “ननकाना साहब पर हमला निंदनीय है और इसकी निंदा की जानी चाहिए। कट्टरता एक खतरनाक, सदियों पुराना जहर है, जिसकी कोई सीमा नहीं है। प्रेम, परस्पर सम्मान और समझ ही इस जहर का काट है।”

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शनिवार को मुज्जफरनगर के अपने दौरे के दौरान इस घटना पर दुख जताते हुए कहा कि ऐसी किसी भी घटना की निंदा होनी चाहिए। वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद ने भी घटना को दुखद बताते हुए कहा कि इसकी कड़ी निंदा होनी चाहिए।

गौरतलब है कि एक सिख किशोरी से कथित तौर पर अपहरण कर शादी करने वाले एक शख्स के खिलाफ पुलिस कार्रवाई में परिवार के कुछ लोगों की गिरफ्तारी को लेकर कुछ लोगों ने शुक्रवार को गुरुद्वारा ननकाना साहिब के बाहर प्रदर्शन किया। इस दौरान गुस्साई भीड़ ने गुरद्वारे पर धावा बोल दिया और सिख श्रद्धालुओं पर पथराव किया। प्रदर्शनकारियों को उग्र होते देख पुलिस ने देर रात सिख लड़की जगजीत कौर के अपहरण के आरोपी को छोड़ दिया, जिसके बाद भीड़ गुरुद्वारे से हट गई।

इस घटना पर कड़ा ऐतराज जताते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय ने इसकी कड़े शब्दों में निंदा की है। भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भारत इस पवित्र स्ल पर तोड़फोड़ और बेअदबी की हरकतों की कड़ी निंदा करता है। हम पाकिस्तान सरकार से सिखों की सुरक्षा और कल्याण सुनिश्चित करने के लिए तत्काल कदम उठाने की मांग करते हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;