#SpeakUpForStudent: कांग्रेस की UGC से परीक्षाएं टालने की मांग, राहुल बोले- प्रदर्शन के आधार पर करें प्रमोट

यूजीसी ने फाइनल ईयर की परीक्षाएं कराने के फैसले के बाद से ही स्टूडेंट इसका विरोध कर रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ”Speak UpForStudents” के नाम से एक कैंपेन शुरू किया है। जिसके के जरिए कई लोगों ने अपनी बात रखी और यूजीसी के फैसले का विरोध किया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

यूजीसी ने फाइनल ईयर की परीक्षाएं कराने के फैसले के बाद से ही स्टूडेंट इसका विरोध कर रहे हैं। यूजीसी की रिवाइज्‍ड गाइडलाइंस आने के बाद यह तय हुआ था कि यूनिवर्सिटी की फाइनल ईयर की परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी और स्टूडेंट्स को ऐसे ही प्रमोट नहीं किया जाएगा। ना सिर्फ स्टूडेंट्स बल्कि कई जगहों पर टीचर्स भी इन परीक्षाओं के आयोजन का विरोध कर रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ”SpeakUpForStudents” के नाम से एक कैंपेन शुरू किया है।

यूजीसी के इस आदेश पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा है कि यूजीसी छात्रों को कनफ्यूज कर रही है। उन्होंने ट्वीट करके कहा कि Covid19 महामारी के दौरान परीक्षा आयोजित करना बेहद अनुचित है। उन्होंने कहा कि यूजीसी को छात्रों और शिक्षाविदों की आवाज सुननी चाहिए। परीक्षा रद्द की जानी चाहिए और छात्रों को पिछले प्रदर्शन के आधार पर प्रमोट किया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड ने बहुत लोगों को नुकसान पहुंचाया. हमारे जो स्टूडेंट्स हैं, स्कूल में, कॉलेज में और यूनिवर्सिटी में, सभी को कष्ट सहना पड़ा। हमारे आईआईटीज ने एग्जाम कैंसिल करके बच्चों को प्रमोट किया. यूजीसी कन्फ्यूज कर रहा है। यूजीसी को एग्जाम कैंसिल करके पास्ट परफार्मेंसेज के आधार पर छात्रों को प्रमोट कर देना चाहिए।

कांग्रेस द्वारा शुरू किए गए इस कैंपेन से अलग अलग राज्यों से कई लोग जुड़ रहे हैं और अपनी बात भी रख रहे हैं। इस कैंपेन के जरिये यूजीसी द्वारा करायी जा रही फाइनल ईयर की परीक्षाओं का विरोध किया जा रहा है और बिना परीक्षाएं हुए स्टूडेंट्स को पास करने की मांग की है। इस कैंपेन में ये भी कहा गया है कि स्टूडेंट्स को पिछले सेमेस्टर के माध्यम से नंबर दिए जाये और पास किया जाए। क्योंकि कोरोना का प्रकोप इस समय ज्यादा है और स्टूडेंट्स पर इसका खतरा है।

आपको बता दें, चार दिन पहले UGC ने विश्वविद्यालयों की फाइनल ईयर/सेमेस्टर की परीक्षाओं और शैक्षणिक कैलेंडर को लेकर नई गाइडलाइन जारी की थी. मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट के जरिये एकेडमिक गाइडलाइन जारी की। यूजीसी की नई गाइडलाइन के अनुसार इंटरमीडिएट सेमेस्टर के छात्रों का मूल्यांकन आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर किया जाएगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia