अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: 3 साल में पहली बार इतना गिरा शेयर बाजार और कोरोना से PAYTM की हुई चांदी

कोरोना वायरस का कहर शेयर बाजार पर भी देखने को मिला है, सेंसेक्स तीन साल में पहली बार 29 हजार के नीचे बंद हुआ और पेटीएम के डिजिटल भुगतान में बड़े पैमाने पर उछाल आया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

3 साल में पहली बार 29 हजार के नीचे पहुंचा सेंसेक्स

सप्ताह के तीसरे कारोबारी दिन यानी बुधवार को शेयर बाजार में फिर जबरदस्त गिरावट देखने को मिली। दिनभर के उतार-चढ़ाव के बाद आज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 1709.58 अंक यानी 5.59 फीसदी की गिरावट के बाद 28,869.51 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 498.25 अंक यानी 5.56 फीसदी की गिरावट के बाद 8,468.80 के स्तर पर बंद हुआ। फिलहाल भारतीय शेयर बाजार तीन साल के निचले स्तर पर है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 31,101.77 का ऊपरी स्तर तथा 28,613.05 का निचला स्तर छुआ। वहीं, निफ्टी ने 9,127.55 का उच्च स्तर और 8,407.05 का निम्न स्तर छुआ। बीएसई पर 28 कंपनियों के शेयर हरे निशान पर तो महज दो कंपनियों के शेयर लाल निशान पर बंद हुए। वहीं, एनएसई पर कुल 44 कंपनियों के शेयरों में लिवाली और छह कंपनियों के शेयरों में बिकवाली देखी गई।

यस बैंक की बैंकिंग सेवाएं बहाल, 19 से 20 मार्च तक एक घंटे पहले खुलेगा बैंक

यस बैंक ने अपनी बैंकिंग सेवाएं सामान्य कर दी हैं। बुधवार शाम को सेवाएं बहाल करते हुए बैंक ने कहा कि ग्राहक अब हमारी सभी सेवाओं को पहले की तरह उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा 19 से 20 मार्च तक एक घंटे पहले यस बैंक खुलेंगा। बता दें कि बैंक के नामित सीईओ प्रशांत कुमार ने मंगलवार को कहा था कि तरलता के मोर्चे पर कोई समस्या नहीं है और बैंक के एटीएम नकदी से भरे हुए हैं। बुधवार को शाम छह बजे से परिचालन पूरी तरह से सामान्य हो जाएगा। पांच मार्च को रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने मुश्किल में फंसे निजी क्षेत्र के बैंक पर प्रति जमाकर्ता 50 हजार रुपये की निकासी सीमा सहित कई बंदिशें लगा दी थीं।


कोरोना का असर: Paytm के डिजिटल भुगतान में उछाल

कोरोना संक्रमण के भारत में भी मामले बढ़ते जा रहे हैं और इसकी वजह से लोगों में डर भी बढ़ रहा है। इसी डर की वजह से लोग अब करेंसी नोट का कम इस्तेमाल कर रहे हैं और डिजिटल पेमेंट बढ़ रहा है। Paytm ने एक बयान में कहा कि डिजिटल भुगतान में बड़े पैमाने पर उछाल आया है, क्योंकि कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए ज्यादातर लोग घर से काम कर रहे हैं और वह घर से बाहर निकलने और नकदी को छूने से बच रहे हैं। पेटीएम के एक प्रवक्ता ने कहा, ' नियमित दिनों की तुलना में डिजिटल भुगतान में 20 फीसदी की वृद्धि हुई है। फरवरी से पेटीएम ऐप पर जाने वाले उपयोगकर्ताओं और प्रति उपयोगकर्ता के लिहाज से सेशन की संख्या में भी वृद्धि हुई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

एक साल में ब्याज दर में 1.75 फीसदी तक कटौती कर सकता है RBI

कोरोना की महामारी पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था पर भारी पड़ रही है। इसे देखते हुए सभी देशों के केंद्रीय बैंक कदम उठा रहे हैं। फिच सोल्यूशंस को उम्मीद है कि अगले पूरे वित्तीय वर्ष यानी 2020-21 में भारतीय रिजर्व बैंक ब्याज दरों में 1.75 फीसदी की कटौती कर सकता है। रेटिंग एजेंसी फिच सोल्यूशंस ने बुधवार को कहा कि उसे उम्मीद है कि भारतीय रिजर्व बैंक एक अप्रैल से शुरू होने वाले वित्त वर्ष के दौरान प्रमुख ब्याज दरों में 1.75 प्रतिशत की कटौती कर सकता है। इससे पहले उसका अनुमान था कि ये कटौती 0.40 प्रतिशत की होगी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

कोरोना वायरस की वजह से नहीं बिक रहीं BS-4 गाड़ियां

पहले से संकट में चल रहे ऑटो सेक्टर को कोरोना वायरस ने तगड़ा झटका दिया है। दरअसल, जैसे-जैसे देश में कोरोना वायरस फैल रहा है, ऑटो सेक्टर के लिए संकट गहराता जा रहा है। बिक्री का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक 31 मार्च 2020 के बाद बीएस-4 गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन नहीं होगा, लेकिन डीलर्स के पास बड़ी संख्या में BS-4 टू-व्हीलर और फोर-व्हीलर के स्टॉक हैं। ऑटो डीलर्स की मानें तो उनके शो-रूम में लोग नहीं आ रहे हैं जिसके चलते जो BS-4 गाड़ियां की INVENTORY पड़ी है, वो खत्म ही नहीं हो रही है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia