समृद्ध भविष्य सुनिश्चित करने के लिए गुरु नानक देव के संदेश को आगे बढ़ाएं: पूर्व पीएम मनमोहन सिंह

पंजाब विधानसभा के विशेष यादगार सत्र में पूर्व पीएम ने कहा कि गुरु नानक देव जी की ईश्वर की एकता, धार्मिक सहिष्णुता और शांति का अनंत संदेश संप्रदायिक हिंसा को खत्म करने का पक्का मार्ग दिखा सकता है, जो दुनिया के सामने सबसे बड़ी चुनौती थी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू व पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने बुधवार को पंजाब के लोगों से सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव के दिखाए पथ का अनुसरण करने को कहा। गुरु नानक देव का 550वां प्रकाश पर्व (जयंती) 12 नवंबर को है। चंडीगढ़ में इस ऐतिहासिक अवसर को चिन्हित करते हुए पंजाब विधानसभा के विशेष यादगार सत्र में नायडू ने गुरु नानक देव के दर्शन को याद किया और सभी से उनके विश्व बंधुत्व, समानता व ईश्वर एक की शिक्षाओं को आत्मसात करने का आग्रह किया। नायडू ने सभी गणमान्य लोगों को शुभकामनाएं भी दीं।

इस दौरान पूर्व प्रधान मंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने सभी से एक जैसा समाज बनाने के लिए गुरु नानक देव के आपसी प्रेम और सम्मान के संदेश को आगे बढ़ाने की अपील की है। पूर्व पीएम ने कहा कि समृद्ध भविष्य सुनिश्चित करने के लिए शांति और सद्भाव ही एकमात्र रास्ता है।

विशेष विधानसभा सत्र में पूर्व पीएम के समेत देश के उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, राज्यपालों, वक्ताओं, मुख्यमंत्रियों, विधायकों और पंजाब और हरियाणा के सांसदों ने 53 सालों के बाद भाग लिया।


मनमोहन सिंह ने यह भी उम्मीद जताई कि आने वाले समय में संघर्षों के स्थायी हल के लिए करतारपुर मॉडल को दोहराया जाएगा।

उन्होंने कहा कि गुरु नानक देव जी की ईश्वर की एकता, धार्मिक सहिष्णुता और शांति का अनंत संदेश संप्रदायिक हिंसा को खत्म करने का पक्का मार्ग दिखा सकता है, जो दुनिया के सामने सबसे बड़ी चुनौती थी।

पूर्व पीएम ने कहा, “पंजाब गुरु नानक देव जी की 'कर्मभूमि' है। उनके 550वें जन्मदिन पर सबसे महत्वपूर्ण सवाल ये है कि अगर यह भूमि युवावस्था में नशीली दवाओं से बर्बाद हो रही है, यहां का पानी जहरीला हो रहा है और महिलाओं का अपमान हो रहा है तो ऐसे में हम गुरु नानक देव जी की विरासत को कैसे जीवित रखेंगे।”


ऐतिहासिक सत्र में उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने विशिष्ट अतिथि के रूप में शिरकत की। इस सत्र में पंजाब के राज्यपाल वीपीएस बदनोर, हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला भी मौजूद थे।

इस अवसर पर, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उपराष्ट्रपति और पूर्व प्रधान मंत्री, पंजाब और हरियाणा के राज्यपालों और हरियाणा के मुख्यमंत्री को सोने और चांदी के स्मारक सिक्के, स्मृति चिन्ह और पुस्तकों के सेट से सम्मानित किया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia