तेलंगाना कांग्रेस ने रायथु बंधु फंड में हेरफेर का आरोप, चयनित ठेकेदारों को अवैध तरीके से लाभ पहुंचा रही सरकार?

तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी (टीपीसीसी) के अध्यक्ष ए. रेवंत रेड्डी के नेतृत्व में नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त को संबोधित एक ज्ञापन सौंपने के लिए मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) विकास राज से मुलाकात की।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस ने आरोप लगाया कि तेलंगाना सरकार ठेकेदारों को भुगतान करने के लिए रायथु बंधु फंड का इस्तेमाल कर रही है। राज्य कांग्रेस ने शनिवार को भारत के चुनाव आयोग से हस्तक्षेप करने और भुगतान रोकने का आग्रह किया है।

तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी (टीपीसीसी) के अध्यक्ष ए. रेवंत रेड्डी के नेतृत्व में नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त को संबोधित एक ज्ञापन सौंपने के लिए मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) विकास राज से मुलाकात की।

उनका कहना है कि आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) अभी भी लागू है। उन्होंने चुनाव आयोग से हस्तक्षेप करने और राज्य सरकार को इसके उल्लंघन में कदम उठाने से रोकने का अनुरोध किया।


टीपीसीसी प्रमुख ने आरोप लगाया कि चुनाव आयोग ने रायथु बंधु के तहत संवितरण (किसी निधि से धन का भुगतान करना) की अनुमति नहीं दी, इसलिए राज्य सरकार इसे 'कमीशन/रिश्वत प्राप्त करने के लिए पसंदीदा ठेकेदारों' को वितरित करने की योजना बना रही है।

आरोप लगाया कि तेलंगाना सरकार अवैध तरीके से चयनित ठेकेदारों को 6,000 करोड़ रुपये वितरित कर रही है। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि कुछ ठेकेदारों को फायदा पहुंचाने के लिए आउट ऑफ टर्न के आधार पर भुगतान किया जा रहा है।

कांग्रेस नेताओं ने यह भी आरोप लगाया कि हैदराबाद के आसपास के रंगारेड्डी, संगारेड्डी और मेडचल जिलों में हजारों एकड़ भूमि के संबंध में भूमि मालिकाना हक रिकॉर्ड बदलने के लिए धरणी पोर्टल का दुरुपयोग किया जा रहा है। ये जमीनें पिछले भूमि रिकॉर्ड के अनुसार आवंटित की गई थीं। इन्हें 'मुख्यमंत्री के परिवार के सदस्यों की बेनामी' में स्थानांतरित किया जा रहा है।

टीपीसीसी के पूर्व अध्यक्ष उत्तम कुमार रेड्डी ने सीईओ से मुलाकात के बाद मीडियाकर्मियों से कहा कि उन्होंने मुख्य सचिव को उचित प्रक्रिया का पालन करने का निर्देश देने की मांग की है। उन्होंने कहा कि वर्तमान बीआरएस सरकार को एमसीसी के दौरान और 'संभवत राज्य सरकार के आखिरी 2 से 3 दिनों में' अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।


4 दिसंबर को मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव द्वारा बुलाई गई राज्य कैबिनेट की बैठक के बारे में पूछे जाने पर उत्तम कुमार रेड्डी ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि उन्होंने बैठक क्यों बुलाई। कांग्रेस नेता ने टिप्पणी की कि हो सकता है कि उन्होंने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपने के लिए बैठक बुलाई हो।

राज्य विधानसभा चुनाव के लिए गुरुवार को मतदान हुआ था और परिणाम रविवार (3 दिसंबर) को घोषित होंगे। ज्यादातर एग्जिट पोल में कांग्रेस पार्टी को बढ़त दी गई है। हालांकि, बीआरएस नेताओं का दावा है कि पार्टी अच्छे बहुमत के साथ सत्ता बरकरार रखेगी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;