तेलंगाना: हैदराबाद मुसी रिवरफ्रंट को किया जाएगा विकसित, रेवंत सरकार ने बनाई योजना

रेवंत रेड्डी ने अधिकारियों को तीन महीने के भीतर संबंधित कार्य शुरू करने के लिए आवश्यक कदम उठाने की सलाह दी। अचानक आने वाली बाढ़ से निपटने के लिए बारिश के पानी को मुसी में मोड़ने के उपाय भी किए जाएंगे।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

तेलंगाना के मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी ने अधिकारियों को तीन साल में मुसी रिवरफ्रंट विकसित करने का निर्देश दिया है। पहले चरण में नई कांग्रेस सरकार द्वारा हैदराबाद में 55 किलोमीटर का मुसी रिवरफ्रंट विकसित किया जाएगा।

हैदराबाद मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी (एचएमडीए) के अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने सुझाव दिया कि अधिकारी सभी क्षेत्रों के लोगों के लिए उपयुक्त एक प्रतिष्ठित डिजाइन का चयन करें।

रेवंत रेड्डी ने कहा कि डिजाइन में समाज के सभी वर्गों की सुविधा के लिए मनोरंजन पार्क, झरने, बच्चों के जल क्रीड़ा, स्ट्रीट वेंडर, व्यावसायिक क्षेत्र, शॉपिंग मॉल आदि जैसी सभी सुविधाएं प्रदान की जानी चाहिए। अधिकारियों को अन्य राज्यों और विदेशों में भी शुरू की गई ऐसी रिवरफ्रंट विकास परियोजनाओं के डिजाइन का अध्ययन करने के लिए कहा गया है।

रेवंत रेड्डी ने अधिकारियों को तीन महीने के भीतर संबंधित कार्य शुरू करने के लिए आवश्यक कदम उठाने की सलाह दी। अचानक आने वाली बाढ़ से निपटने के लिए बारिश के पानी को मुसी में मोड़ने के उपाय भी किए जाएंगे।


मुसी रिवरफ्रंट परियोजना के हिस्से के रूप में ऐतिहासिक इमारतों, चारमीनार, तारामती बारादरी और मुसी जलग्रहण क्षेत्रों के साथ स्थित अन्य पर्यटन स्थलों को जोड़कर एक पर्यटन सर्किट डिजाइन किया जाएगा।

रेवंत रेड्डी ने अधिकारियों को इस परियोजना को सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) मोड में शुरू करने की योजना तैयार करने का आदेश दिया। इससे पहले, मंगलवार को नीति आयोग के उपाध्यक्ष सुमन कुमार बेरी के साथ बैठक में मुख्यमंत्री ने पीपीपी मोड के माध्यम से साबरमती रिवरफ्रंट और नमामि गंगे के समान रिवरफ्रंट के विकास में तकनीकी सहायता मांगी।

रेवंत रेड्डी ने मुसी रिवरफ्रंट पर सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) स्थापित करने के लिए भी समर्थन मांगा।

पिछली तेलंगाना सरकार ने 16,600 करोड़ रुपये की लागत से मुसी नदी का कायाकल्प और सौंदर्यीकरण करने की योजना बनाई थी। इसने चेक डैम और पुलों का निर्माण करके मुसी को पूरे वर्ष पानी से लबालब रखने के लिए नदी को कोंडापोचम्मा सागर से जोड़ने की भी योजना थी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;