तेलंगाना के नए CM रेवंत रेड्डी ने प्रजा दरबार में सुनीं जनता की शिकायतें, लोगों की शिकायतें दूर करने का किया वादा!

मुख्यमंत्री को वृद्धावस्था पेंशन और घर के लिए अपनी याचिका देने वाले नागरिकों में से एक नागेश ने मीडियाकर्मियों से कहा कि उन्हें खुशी है कि लंबे समय के बाद कोई मुख्यमंत्री जनता की शिकायतें सुन रहा है।

तेलंगाना के नए मुख्यमंत्री ने प्रजा दरबार में सुनीं जनता की शिकायतें
तेलंगाना के नए मुख्यमंत्री ने प्रजा दरबार में सुनीं जनता की शिकायतें
user

नवजीवन डेस्क

तेलंगाना के मुख्यमंत्री ए. रेवंत रेड्डी ने पद संभालते ही एक्शन में आ गए हैं। सीएम रेवंत लोगों की समस्याओं से अवगत हो रहे हैं। इसके लिए उन्होंने शुक्रवार को लोगों की शिकायतें सुनने के लिए 'प्रजा दरबार' आयोजित किया जो एक नियमित व्यवस्था होगी। उन्हें मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास पर सुबह से कतार में लगे लोगों से आवेदन प्राप्त हुए।

मंत्री पी. श्रीनिवास रेड्डी के साथ रेवंत रेड्डी ने लोगों की शिकायतें सुनीं और उनकी याचिकाएं लेने के बाद उन्हें अधिकारियों को सौंप दिया। महिलाओं सहित सैकड़ों लोग मुख्यमंत्री को विभिन्न समस्याओं के बारे में अपना ज्ञापन सौंपने के लिए शुक्रवार सुबह बेगमपेट में ज्योतिराव फुले प्रजा भवन पहुंचे।

रेवंत रेड्डी, जो अभी भी जुबली हिल्स में अपने घर पर रह रहे हैं, सुबह 10 बजे के आसपास प्रजा भवन पहुंचे और व्यक्तिगत रूप से नागरिकों की शिकायतें सुनीं। सीएम से मिलने वालों में व्हीलचेयर पर बैठे कुछ मरीज और दिव्यांग भी शामिल थे।


मुख्यमंत्री को वृद्धावस्था पेंशन और घर के लिए अपनी याचिका देने वाले नागरिकों में से एक नागेश ने मीडियाकर्मियों से कहा कि उन्हें खुशी है कि लंबे समय के बाद कोई मुख्यमंत्री जनता की शिकायतें सुन रहा है। उन्होंने संयुक्त आंध्र प्रदेश के दिवंगत मुख्यमंत्री वाई.एस. राजशेखर रेड्डी का जिक्र करते हुए कहा, "ऐसा लगता है जैसे वाईएसआर सर का पुनर्जन्म हो गया है।"

नारायण रेड्डी, जिन्होंने एक दशक से भी अधिक समय पहले बिजली के झटके के कारण दोनों हाथ और एक पैर खो दिया था, ने मुख्यमंत्री से कृत्रिम अंगों की व्यवस्था करने का अनुरोध किया।

कांग्रेस पार्टी ने अपने चुनाव घोषणापत्र में प्रजा दरबार को पुनर्जीवित करने का वादा किया था। गुरुवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद रेवंत रेड्डी ने प्रगति भवन का नाम बदलकर ज्योतिराव फुले प्रजा भवन करने की घोषणा की थी।


सत्ता संभालने के तुरंत बाद, नई सरकार ने इमारत के सामने लगी लोहे की बाड़ को भी हटा दिया, ताकि लोगों को सीएम के आधिकारिक आवास तक बिना रोक-टोक पहुंच मिल सके। बाड़ से व्यस्त सड़क पर वाहनों की आवाजाही में भी बाधा होती थी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;