दिल्ली में मौत की बारिश! जिस टेंपू को बनाया था आशियाना, वही बनी कुंदन की कब्रगाह

दिल्ली में रविवार को हुई भारी बारिश ने उत्तराखंड के कुंदन की जान ले ली। कुंदन मार्च में दिल्ली पैसे कमाने आया था और प्रत्येक रात वह अपने टेंपू रिक्शा में सोता था, लेकिन रविवार को हुई भारी बारिश की वजह से वह सड़क पर भरे पानी से खुद को बचा नहीं पाया।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

आईएएनएस

दिल्ली में रविवार को हुई भारी बारिश ने उत्तराखंड के कुंदन की जान ले ली। कुंदन मार्च में दिल्ली पैसे कमाने आया था और प्रत्येक रात वह अपने टेंपू रिक्शा में सोता था, लेकिन रविवार को हुई भारी बारिश की वजह से वह सड़क पर भरे पानी से खुद को बचा नहीं पाया। बारिश के पानी में दिल्ली के मुख्य क्षेत्र में एक बड़ी डीटीसी बस को भी पूरी तरह से डूबा देखा गया।

इसे भी पढ़ें- दिल्ली-एनसीआर में भारी बारिश से जलभराव, मिंटो रोड पर अंडरपास में फंसी डीटीसी बस, ऐसे बचाई गई लोगों की जान

उसके परिवार ने सवाल करते हुए कहा, "यह कोई गांव का इलाका नहीं था, यह कोई गांव या मुफस्सल नहीं था। यह दिल्ली थी, जहां उसका टेंपू उसकी कब्रगाह बन गया।" 56 वर्षीय कुंदन मार्च में लॉकडाउन लागू होने से पहले उत्तराखंड से यहां आया था और काम के बाद भी टेंपू को ही उसने अपना आशियाना बना लिया था। उसके परिवार के एक सदस्य ने कहा, "अब उसकी 21 व 12 वर्ष की बेटियां उसे कभी नहीं देख पाएंगी। पिथौड़ागढ़ निवासी कुंदन दिल्ली पैसे कमाने आया था और अपने रिश्तेदार का टेंपू चलाता था।" रविवार रात को यहां के मिंटो ब्रिज अंडरपास में जलजमाव हो गया। उसे बचाने गए दमकलकर्मी ने कहा कि उसका टेंपू फंस गया था और काफी कोशिशों के बाद भी वह बाहर नहीं निकल पाया।

दमकल विभाग ने एक बस चालक और एक कंडक्टर को बचा लिया, लेकिन ऑटो ड्राइवर को बचाया नहीं जा सका। जब पानी का स्तर कम हो गया तो उसके शव को बाहर निकाला गया। मृतक के रिश्तेदार प्रीतम सिंह ने कहा, "यह पहली बार नहीं है कि मिंटो ब्रिज अंडरपास में पानी जमा हो गया। प्रशासन, सरकार कोई भी कदम उठाने में विफल रही। नतीजा यह हुआ कि कुंदन मारा गया। अब उसकी दो बेटी को कौन देखेगा, जिसमें से एक की उम्र विवाह के लायक है।" कुंदन प्रीतम का ही ऑटो बीते चार माह से चला रहा था। प्रीतम ने कहा कि मैं सरकार से जवाब चाहता हूं।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, "एक व्यक्ति कुंदन टाटा एस से आज सुबह नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से कनॉट प्लेस जा रहा था। पूरी रात की बारिश की वजह से मिंटो रोड में पानी जमा हो गया था। उसने पानी से भरे अंडरपास में से अपने वाहन को निकालने की बहुत कोशिश की, लेकिन वह सफल नहीं हो सका।" उन्होंने कहा, "ऐसा लगता है कि उसकी डूबने से मौत हो गई। कोई भी बाहरी चोट के निशान नहीं हैं।" प्रीतम के अनुसार, कुंदन उसके टेंपू में महीनों से सोता था। टेंपू का प्रयोग सीआरपीएफ के लिए कैंटीन का समान पहुंचाने के लिए किया जाता था। वह टेंपू में सोया करता था। हर साल बारिश की वजह से मिंटो रोड अंडरपास में जलजमाव वाली स्थिति पैदा हो जाती है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia