राजस्थान में सत्ता बदलने के बाद से सबसे बड़ा बदलाव, मंत्री के कार्यालय से गांधी, अंबेडकर हो गए गायब!

आरएसएस के संस्थापक और पहले सरसंघचालक डॉ. केशव राव बलिराम हेडगेवार और दूसरे सरसंघचालक माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर की तस्वीरें लगाई गई हैं। मंत्री गहलोत के चैंबर में उनकी कुर्सी के पीछे सात तस्वीरें लगाई गई हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान कांग्रेस ने राज्य के कैबिनेट मंत्री अविनाश गहलोत के कक्ष से महात्मा गांधी और बाबा साहेब अंबेडकर की तस्वीरें गायब होने पर सवाल उठाया है। अब तक बीजेपी के सभी सीएम और मंत्री अपने चैंबर में महात्मा गांधी और डॉ. अंबेडकर की तस्वीरें लगाते रहे हैं।

राजस्थान कांग्रेस ने अपने एक्स हैंडल पर (हिंदी में) पोस्ट किया: “संविधान की शपथ लेकर मंत्री बने... लेकिन कुर्सी पर बैठते ही संविधान निर्माता को हटाकर आरएसएस संस्थापक को ले आए। बीजेपी सरकार के मंत्री अविनाश गहलोत ने पदभार ग्रहण करते ही बाबा साहेब अंबेडकर जी और महात्मा गांधी जी की तस्वीर हटा दीं।''


गहलोत ने नये साल पर सचिवालय के मंत्रालय भवन में अपने कक्ष में पूजा-अर्चना और मंत्रोच्चार के बाद पदभार ग्रहण किया। कक्ष में उनकी कुर्सी के पीछे लगी तस्वीरों में महात्मा गांधी और संविधान निर्माता भीमराव अंबेडकर की कोई तस्वीर नहीं है।

आरएसएस के संस्थापक और पहले सरसंघचालक डॉ. केशव राव बलिराम हेडगेवार और दूसरे सरसंघचालक माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर की तस्वीरें लगाई गई हैं। मंत्री गहलोत के चैंबर में उनकी कुर्सी के पीछे सात तस्वीरें लगाई गई हैं। हेडगेवार और गोलवलकर के बीच भारत माता की तस्वीर रखी गई है। इनके नीचे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा की तस्वीरें हैं।


पिछले बीजेपी शासनकाल में मंत्री राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के अलावा महात्मा गांधी और अंबेडकर की भी तस्वीरें लगाते थे। सरकारी दफ्तरों में हेडगेवार और गोलवलकर की तस्वीरें कम ही देखने को मिलती थीं। अविनाश गहलोत आरएसएस से जुड़े हैं और उन्होंने छात्र जीवन से ही संघ में काम किया है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;