‘आपके घर का दरवाजा आपकी लक्ष्मण रेखा है, इसके बाहर खड़ा राक्षस आपका इंतजार कर रहा है, इसे बिल्कुल न लांघें’

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लगातार एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एक तरफ इस संकट की घड़ी में लोगों से दान कर सहयोग की अपेक्षा जताई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लगातार एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एक तरफ इस संकट की घड़ी में लोगों से दान कर सहयोग की अपेक्षा जताई है। वहीं लोगों से घर की लक्ष्मण रेखा को न लांघने की अपील की है। मुख्यमंत्री बघेल ने ट्वीट कर कहा, “यह संकट का समय है। सरकार जो कुछ कर सकती है, कर रही है। लेकिन ऐसी कई और भी चीजें हैं जो की जा सकती हैं। प्रदेश के बहुत से सुधिजनों ने गरीब और जरुरतमंदों की सहायता करने की इच्छा जताई है। मैं समाज के सक्षम वर्ग से इस संकट के समय में दान करने की अपील करता हूं।”

मुख्यमंत्री बघेल ने इस बीमारी पर नियंत्रण पाने के लिए लोगों से घर में ही रहने की अपील की है और घर के दरवाजे की लक्ष्मण रेखा न लांघने को कहा है। उन्होंने प्रियंका शुक्ला के ट्वीट को री-ट्वीट किया है। इसमें 21 दिन के लॉकडाउन का समर्थन, घर पर रहें सुरक्षित रहें की बात कही गई है। बघेल ने कहा, “आपके घर का दरवाजा आपकी लक्ष्मण रेखा है, जिसके बाहर खड़ा राक्षस आपके हरण की प्रतीक्षा कर रहा है। इसे बिल्कुल न लांघें।”

राज्य सरकार द्वारा कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए उठाए जा रहे कदमों का ब्यौरा देते हुए बघेल ने कहा, “राज्य शासन द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के उपायों के तहत राजधानी रायपुर सहित प्रदेश के सभी 28 जिलों में कंट्रोल रुम स्थापित किए गए हैं। आम जनता को किसी प्रकार की दिक्कत होने पर इन कंट्रोल रूम के नंबर पर सातों दिन चौबीस घंटे संपर्क किया जा सकता है।”

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय