भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी को लाने गई विशेष टीम डोमिनिका से खाली हाथ लौटी भारत, जानें क्यों नहीं मिली सफलता

भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण से जुड़े दस्तावेजों के साथ डोमिनिका भेजे गए प्राइवेट विमान ने गुरुवार को रात 8:10 बजे (स्थानीय समयानुसार) द्वीप (डोमिनिका) से उड़ान भरी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण के लिए दस्तावेंजों के साथ डोमिनिका गया भारत का प्राइवेट विमान अब खाली हाथ ही वहां से उड़ान भर चुका है। गुरुवार रात को भारतीय टीम ने डोमिनिका से जहाज पकड़ा और इनके साथ मेहुल चोकसी नहीं था। खबरों के मुताबिक, भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण से जुड़े दस्तावेजों के साथ डोमिनिका भेजे गए प्राइवेट विमान ने गुरुवार को रात 8:10 बजे (स्थानीय समयानुसार) द्वीप (डोमिनिका) से उड़ान भरी।

सूत्रों की मानें तो मेहुल चोकसी अभी डोमिनिका के एक अस्पताल में ही है। बता दें कि भारत में जन्मे मेहुल चोकसी ने एंटीगुआ की नागरिकता ले ली है। 23 मई को वह डोमिनिका में पकड़ा गया था। उसके ऊपर अवैध तरीके से डोमिनिका में प्रवेश करने का आरोप है और इस मामले की कोर्ट में सुनवाई भी हो रही है।

भारतीय अफसरों की एक टीम स्पेशल जेट वहां पहुंचा था। ताकि मेहुल चोकसी को भारत लाया जा सके और कोर्ट में दलीलों को दिया जा सके। अब ताजा स्थिति के अनुसार अब मेहुल चोकसी का अगले एक महीने तक भारत में लाना संभव नहीं दिख रहा है।

मेहुल चोकसी को लेकर डोमिनिका की दो अदालत में दो अलग-अलग मामले चल रहे हैं। ऐसे में कहा जा रहा है कि जबतक ये मामले खत्म नहीं होते, तबतक मेहुल चोकसी का भारत आना मुश्किल है। गुरुवार को डोमिनिका की अदालत ने इस मामले में सुनवाई टाल दी, अब माना जा रहा है कि अगली सुनवाई एक जुलाई को ही होगी।

बता दें कि पीएनबी धोखाधड़ी मामले में आरोपी मेहुल चोकसी अपने भांजे नीरव मोदी के साथ 4 जनवरी 2018 को भारत छोड़कर भाग गया था। जनवरी 2018 में भारत से भागने से पहले ही उसने 2017 में ही कैरिबियाई द्वीपीय देश एंटीगुआ बारबुडा की नागरिकता हासिल कर ली थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia