आधे हिंदुस्तान पर फिर आंधी-तूफान का खतरा, अगले 3 दिन होंगे दिल्ली-यूपी-राजस्थान पर भारी

मौसम विभाग ने आधे देश पर फिर से आंधी-तूफान के खतरे के लिए आगाह किया है। उसका कहना है कि अगले तीन दिनों में दिल्ली-एनसीआर के अलावा उत्तर प्रदेश और राजस्थान पर काफी खतरा मंडरा रहा है।

दिल्ली-एनसीआर और उत्तर प्रदेश समेत देश के कम से कम 20 राज्यों पर एक बार फिर आंधी-तूफान का खतरा मंडरा रहा है। मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है कि अले तीन दिन उत्तर भारत और उत्तर पश्चिम भारत में भारी तूफान और मूसलाधार बारिश हो सकती है। इसके अलावा राजस्थान में एक बार फिर धूलभरी आंधी आने की आशंका है। साथ ही ओडिशा और पश्चिम बंगाल के कुछ इलाकों में खराब मौसम का खतरा मंडरा रहा है।

मौसम विभाग ने जिन राज्यों के लिए चेतावनी जारी की है, उनमें असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, झारखंड, बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, तटीय आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, लक्षद्वीप के कुछ इलाकों शामिल हैं। मौसम विभाग का कहना है कि इन राज्यों में तेज हवा के साथ आंधी आ सकती है।

गौरतलब है कि पिछले करीब 15 दिनों से मौसम के मिजाज में तेजी से बदलाव हो रहा है। इस माह के पहले सप्ताह में उत्तर प्रदेश और राजस्थान में आंधी-तूफान के चलते 120 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इसी सप्ताह रविवार और सोमवार को आए तूफान में भी कम से कम 86 लोगों की जान गई है। 50 से ज्यादा मौतें तो अकेले उत्तर प्रदेश में हुई थीं। बिहार में भी कई लोगों की जान गई थी।

मौसम विभाग ने इन आँधी-तूफान का कारण पश्चिमी विक्षोभ यानी वेस्टर्न डिस्टर्बेंस को बताया है। मौसम विभाग का कहना है कि गर्मी के मौसम में यह बदलाव होता ही है। लेकिन, इस बार पाकिस्तान और अफगानिस्तान के ऊपर वेस्टर्न डिस्टर्बेंस (पश्चिमी विक्षोभ) और राजस्थान और मध्यप्रदेश के ऊपर चक्रवाती हालात बनने से मौसम लगातार खराब हो रहा है।

गौरतलब है कि हर साल इन दिनों में सबसे पहले यूरोप और अफ्रीका के बीच स्थित भूमध्य सागर (मेडिटेरियन सी) में 25 डिग्री से ज्यादा तापमान होने पर पश्चिमी विक्षोभ पैदा होता है, जो वहां से तुर्की, इराक, ईरान से होता हुआ जम्मू-कश्मीर पहुंचता है। यहां पहाड़ों से टकराकर यह दिल्ली की तरफ मुड़ जाता है। इसके बाद यह रास्ते में आने वाले देश के हर राज्य में असर डालता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

सबसे लोकप्रिय