इधर माया ने किया एसपी के साथ गठबंधन का ऐलान, उधर योगी ने सीबीआई को सौंपा उनके दौर का चीनी मिल मामला

2019 का लोकसभा चुनाव एसपी के साथ मिलकर लड़ने के बीएसपी प्रमुख मायावती के ऐलान के एक दिन के बाद उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने चीनी मिल घोटाले की जांच सीबीआई को सौंप दी है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख मायावती की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली बीजेपी सरकार ने राज्य में 21 सरकारी शुगर मिलों को बेचे जाने के मामले की सीबीआई जांच का आदेश जारी कर दिया है। बता दें कि यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती पर इन चीनी मिलों को बाजार दर से कम कीमत पर बेचने का आरोप है। मामले की जांच सीबीआई को सौंपे जाने को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार ने अधिसूचना भी जारी कर दी है। अपने आदेश में योगी सरकार ने सीबीआई से 2010-11 के बीच 21 चीनी मिल बेचे जाने की प्रक्रिया की जांच करने को कहा है।

इससे एक दिन पहले ही बीएसपी प्रमुख मायावती ने अगला लोकसभा चुनाव एसपी के साथ मिलकर लड़ने का ऐलान किया था। चुनाव प्रचार के लिए कर्नाटक पहुंची मायावती ने ऐलान किया था कि 2019 का लोकसभा चुनाव एसपी-बीएसपी साथ मिलकर लड़ेंगी, इस बात में कोई संदेह नहीं है। इस मौके पर मायावती ने कहा कि एसपी-बीएसपी गठबंधन से बीजेपी बौखला गई है। उन्होंने कहा कि सांप्रदायिक ताकतें नहीं चाहतीं कि धर्मनिरपेक्ष ताकतें इकट्ठा हों और आगे बढ़ें। गौरतलब है कि पिछले दिनों एसपी-बीएसपी ने उत्तर प्रदेश की दो लोकसभा सीटों के उपचुनाव में मिलकर लड़ा था और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के पारंपरिक गढ़ रहे गोरखपुर और फूलपुर में बीजेपी को करारी शिकस्त दी ती।

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि अगले लोकसभा चुनावों में अगर एसपी और बीएसपी साथ आ जाते हैं तो बीजेपी की राह बेहद मुश्किल हो जाएगी। इसी वजह से माना जा रहा है कि मायावती के द्वारा एसपी-बीएसपी गठबंधन के ऐलान के ठीक एक दिन बाद बीजेपी की सरकार ने उनके खिलाफ सीबीआई जांच का आदेश जारी किया है।

लोकप्रिय