गिरफ्तारी के बाद बिगड़ी भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर की हालत, इलाज के लिए मेरठ भेजे गए

चन्द्रशेखर आजाद बीएसपी संस्थापक कांशीराम के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में बहुजन हुंकार रैली निकाल रहे थे। रैली में चन्द्रशेखर के साथ उनके सैकड़ों समर्थक मोटरसाइकिल से चल रहे थे। इस रैली की शुरुआत 11 मार्च को सहारनपुर के रविदास आश्रम से हुई थी।

फोटो: आस मोम्मद कैफ
फोटो: आस मोम्मद कैफ

आस मोहम्मद कैफ

भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर आज़ाद को आचार संहिता उल्लंघन के आरोप में पुलिस ने देवबंद से गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तारी के तुरंत बाद चन्द्रशेखर की तबियत बिगड़ गई जिसके बाद उन्हें मेरठ अस्पताल भेज दिया गया।

चन्द्रशेखर आजाद बीएसपी संस्थापक कांशीराम के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में बहुजन हुंकार रैली निकाल रहे थे। चन्द्रशेखर की रैली में उनके साथ सैकड़ों समर्थक मोटरसाइकिल से चल रहे थे। इस रैली की शुरुआत 11 मार्च को सहारनपुर के रविदास आश्रम से की गई थी। भीम आर्मी के सहारनपुर के जिलाध्यक्ष कमल सिंह वालिया ने कहा है कि उत्तर प्रदेश सरकार उनकी आवाज़ को कुचलने की कोशिश कर रही है। सरकार को माकूल जवाब दिया जाएगा, भीम आर्मी घुटने नही टेकेगी।

इस गिरफ्तारी के तुरंत बाद चन्द्रशेखर आज़ाद की तबियत अचानक बिगड़ गई और उन्हें मेरठ अस्पताल में भर्ती कराया गया। कमल सिंह का कहना है कि उनके कुछ साथियों के साथ पुलिस ने धक्का मुक्की की और भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं के डराया धमकाया।

भीम आर्मी और असोडेफ ने संयुक्त रूप से इस बहुजन हुंकार रैली का आयोजन किया था।कार्यक्रम के अनुसार 11 मार्च को सहारनपुर के रविदास आश्रम से चलकर रात में यह देवबंद पहुंची।आज इन्हें बेगराजपुर में रात्रि विश्राम करना था। और फिर मेरठ होते हुए दिल्ली पहुंचना था जहां 15 मार्च को जंतर मंतर पर इस रैली का समापन का कार्यक्रम था।

पुलिस को मिली खुफिया जानकारी मुताबिक इस कार्यक्रम के माध्यम से दलित युवाओं में उत्तेजना फैलाने की कोशिश की जा रही थी। जिससे इलाके में कानून व्यवस्था प्रभावित होने का खतरा बन गया था। चन्द्रशेखर की गिरफ्तारी के लिए भारी संख्या में पुलिस की तैनाती की गई थी। एसोडेफ के वसीम अकरम के मुताबिक पुलिस ने बेहद गैरपेशेवराना बर्ताव किया और कार्यकर्ताओं के साथ अभद्रता की। वसीम ने कहा कि हम चन्द्रशेखर भाई की हिम्मत टूटने नही देंगे।

Published: 12 Mar 2019, 6:46 PM
लोकप्रिय